83 सेंटर्स पर शहर में एग्जाम

5 प्रतिशत ने नहीं दिया एग्जाम

11 बजे सुबह शुरू हुआ एग्जाम

- सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा में आया आसान पेपर

- सभी सेक्शन से मिले जुले सवाल पूछे गए

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा में करंट अफेयर से जुड़े सवालों ने कैंडीडेट्स के चेहरे पर मुस्कान ला दी. ट्रेन 18 से लेकर आने वाली फिल्म एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर और लिबर्टी ऑफ स्टैचू से जुड़े सवाल काफी संख्या में पूछे गए. यही नहीं, काकोरी कांड भी सवालों का हिस्सा बना. हालांकि संस्कृत के सवालों ने कैंडीडेट्स को काफी परेशान किया. कैंडीडेट्स का कहना था कि मैथ्स के कुछ सवाल काफी लंबे थे, इनको हल करने में काफी समय लगा. परीक्षा नियामक प्राधिकारी यूपी की ओर से संडे को सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा राजधानी में 83 सेंटर्स पर कराई गई.

मैथ्स ने उलझाया

एग्जाम देकर निकले राजीव ने बताया कि मैथ्स में सिंपल इंट्रेस्ट, कंपाउंड इंट्रेस्ट और मेंसुरेशन से सवाल पूछे गए. सवाल टिपिकल नहीं थे लेकिन इनका कैलकुलेशन अधिक समय ले रहा था. वहीं हिंदी, इंग्लिश, साइंस और हिस्ट्री से पूछे गए सवाल आसान रहे. इन दिनों जिन मुद्दों पर चर्चा हो रही है, उन्हें भी प्रश्नों में शामिल किया गया. कुंभ और पीएम की पुस्तक एग्जाम वरियर पर भी प्रश्न पूछे गए. राजीव ने बताया कि कुल मिलाकर पेपर काफी आसान आया है.

करंट अफेयर सबसे आसान

जीएस के सवालों में पीएम ने किस देश से रामायण सर्किट की शुरूआत की. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई, भारत के सुपर कंप्यूटर का नाम आदि सवाल पूछे गए. कैंडीडेट्स ने बताया कि करंट अफेयर एग्जाम का सबसे आसान पार्ट था.

5 प्रतिशत रहे अनुपस्थित

राजधानी में संडे को 83 सेंटर्स पर सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा कराई गई. इसमें 40979 कैंडीडेंट्स को शामिल होना था. डीआईओएस मुकेश सिंह ने बताया कि एग्जाम में 95.17 प्रतिशत कैंडीडेट्स शामिल हुए. करीब 1978 ने एग्जाम छोड़ा. एग्जाम 11 बजे शुरू हुआ और 1:30 बजे समाप्त हुआ.

बाक्स

कुछ सवालों पर उठे सवाल

एग्जाम में पूछे गए कुछ सवालों पर कैंडीडेट्स ने आपत्तियां जताई हैं. उनका कहना था कि एक सवाल में कार्बन डाईऑक्साइड की एनटीपी वैल्यू पूछी गई. कैंडीडेट इतिशा के मुताबिक यह सवाल गलत है क्योंकि एनटीपी डायरेक्ट वैल्यु नहीं पूछी जा सकती. वहीं अंशू सिंह ने बताया कि जीवन कौशल से जुड़े दो से तीन सवालों में दिये गए विकल्पों में एक से अधिक सही थे.

कैंडीडेट्स का कोट

ओवरऑल पेपर आसान रहा. खासकर करंट अफेयर और हिंदी का पार्ट काफी आसान था. टीईटी की तुलना में पेपर अच्छा था.

राजीव

मैथ्स का पार्ट थोड़ा लंबा होने के साथ ट्रिक बेस्ड था. ओवरऑल पेपर काफी आसान रहा है.

आलोक

मैथ्स का पार्ट काफी लंबा था. सवालों को सॉल्व करने में काफी समय लगा. सवाल काफी कैलकुलेटिव थे.

अराधना दूबे

करंट अफेयर में कई ऐसे सवाल आए जो इन दिनों चर्चा में हैं. वह हिंदी, इंग्लिश, साइंस और हिस्ट्री के सवाल आसान थे.

विजय लक्ष्मी