- परिवहन विभाग एसी बसों में लगाने जा रहा है वाई-फाई

- वाई-फाई का काटा जाएगा फिक्स चार्ज, चार्ज अभी तय नहीं

- मेरठ में चल रही है चार एसी बस, दो पिंक और दो जनरथ

meerut@inext.co.in

Meerut : अब आप एसी बसों में इंटरनेट का मजा भी ले सकेंगे, क्योंकि परिवहन विभाग जल्द ही एसी बसों में वाई-फाई लगवाने जा रहा है. इसके बाद सफर के साथ आप इंटरनेट की सुविधा भी उठा सकेंगे. स्मार्ट जेनरेशन के हिसाब से अब हर कोई खुद को ढाल रहा है. इस क्रम में रोडवेज ने पहले टिकटों की बुकिंग ऑनलाइन शुरू की, फिर वेब पेज पर लोकेशन की सुविधा शुरू की गई और अब बसों में वाई-फाई लगाकर यात्रा को और ज्यादा मजेदार बनाने की तैयारी है.

हेडक्वार्टर ने लगाई मुहर

परिवहन विभाग की इस सुविधा के लिए मुख्यालय ने मुहर लगा दी है. जीपीएस सिस्टम पहले से ही बसों में लगे हुए हैं. ऐसे में वाई-फाई सुविधा शुरू होने पर कोई खास समस्या नहीं है. रोडवेज विभाग के अधिकारियों का मानना है कि इस साल जून मंथ तक ये सुविधा शुरू हो जाएगी. वाई-फाई की सुविधा एसी बसों में ही रहेगी. परिवहन विभाग के पास इस समय सिटी में दो पिंक बस और दो जनरथ बसें आती हैं, जो आंनद विहार और गाजियाबाद से मेरठ आती हैं.

बीएसएनएल होगा सर्विस प्रोवाइडर

रोडवेज की बसों में वाई-फाई फैसिलिटी स्टार्ट करने की प्लानिंग काफी पहले से चल रही है. इसको लेकर रोडवेज ऑफिसर्स के बीच काफी डिस्कशन भी हुआ. रोडवेज विभाग ने इसके लिए बीएसएनएल से करार किया है. मुख्यालय ने बीएसएनएल अधिकारियों के साथ मीटिंग भी बुलाई है, जिसमें करार पर मुहर लग जाएगी. इस सुविधा के लिए करीब फ् करोड़ों रुपए की जरूरत होगी. बीएसएनल अधिकारियों से बात करने के बाद बजट की राशि फाइनल होगी.

सिटी में नहीं है कोई भी एसी बस

परिवहन विभाग भले ही रोडवेज की एसी बसों में वाई-फाई की सुविधा शुरू कर रहा हो, लेकिन हकीकत ये है कि फिलहाल सिटी के अंदर तो कोई एसी बस नहीं है. सिटी में रोडवेज विभाग के बेडे़ में पहले एसी बसें थीं. जो ज्यादातर लखनऊ और कानपुर रूट पर चलती थीं, लेकिन बाद में वे सभी बंद हो गई.

सिटी बसें नहीं हैं एसी

अगर बात जेएनएनयूआरएम की बसों की करें तो उनमें से एक भी बस एसी नहीं है. ऐसी कोई योजना भी नहीं दिख रही है कि सिटी के लोगों को सफर के दौरान सिटी के अंदर एसी का मजा मिले, जबकि यूपी के बाकी बड़े शहरों में सिटी बसों में भी एसी लगे हुए हैं, लेकिन अफसर इस बारे में कुछ विचार करने को तैयार नहीं है. अधिकारियों की मानें पहले सिटी बसों का मेंटेनेंस काफी अधिक होता है और कमाई कुछ भी नहीं. ऐसे में एसी बसों को लेकर अपने सिर मुसीबत मोल लेना है.

फिक्स चार्जेज से मिलेगा मजा

रोडवेज अधिकारियों के अनुसार बसों में वाई-फाई सुविधा के लिए फिक्स चार्ज लिया जाएगा. इसके लिए जितनी देर भी आप वाई-फाई इस्तेमाल करेंगे. उस हिसाब से ही चार्ज होगा. चार्ज कितना होगा, इस बात का फैसला नहीं हुआ है.

वाई-फाई बसों के बारे में काफी पहले से मंथन चल रहा था. इस पर मुहर लगने से लोगों बसों में भी वाई-फाई का इस्तेमाल अपने सफर को और भी सुहाना बना सकेंगे.

- अशोक कुमार, आरएम