- हर दिन कार वॉश्िाग के नाम पर बर्बाद कर रहे हैं हजारों लीटर पानी

-सफाई के लिए विकल्प वैक्युम क्लीनर और कपड़े से साफ करें कार

===============

100 लीटर से अधिक एक कार की वॉशिंग में लगता है पानी

400-से अधिक शहर में चल रहे हैं वाशिंग सेंटर

100-से भी कम नगर निगम में हैं रजिस्टर्ड

======================

बरेली: पानी बचाने के लिए हम कितना अवेयर हैं, इसका अंदाज शहर में चल रहे वॉशिंग सेंटर को देखकर लगाया जा सकता है. शहर में चल रहे वॉशिंग सेंटर पर एक कार को धोने में औसतन सौ लीटर से अधिक पानी खर्च हो जाता है. लेकिन इस तरह की पानी बर्बादी को रोकने के लिए हम जरा भी अवेयर नहीं हैं और न अपनी जिम्मेदारी को समझते हैं, जिस कारण हम पानी की बर्बादी करने में लगे हुए हैं. लेकिन इसी तरह हम पानी की बर्बादी करते रहे तो आने वाले समय में हमारे और हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए अच्छी स्थित नहीं होगी. इसीलिए हमें पानी बचाने के लिए खुद अवेयर होना चाहिए, साथ ही दूसरों को भी करना चाहिए.

जमकर कर रहे बर्बादी

शहर में करीब चार सौ से अधिक वॉशिंग सेंटर चल रहे हैं. लेकिन इसमें से आधे भी सर्विस सेंटर नगर निगम के पास रजिस्टर्ड नहीं हैं. नगर निगम के पास अभी सौ भी वाशिंग सेंटर रजिस्टर्ड नहीं है. बिना रजिस्ट्रेशन के चल रहे यह वॉशिंग सेंटर नगर निगम को भी टैक्स नहीं दे रहे हैं, साथ ही यह हजारों लीटर पानी बर्बाद भी कर रहे हैं. एक कार को धोने में औसतन सौ लीटर से अधिक पानी बर्बाद हो जाता है.

सफाई के लिए यह भी विकल्प

-वैक्युम क्लीनर का यूज कर सकते हैं

-कपड़े से गाड़ी साफ करें, जरूरत लगे तो कपड़ा भिगोकर यूज कर सकते हैं

- वाहन को ढक कर रखें और डेली साफ करें इससे वाहन गंदा नहीं लगेगा

==============

वर्जन

-जो भी वॉशिंग सेंटर शहर में चल रहे उनका नगर निगम में रजिस्ट्रेशन होता है. बगैर रजिस्ट्रेशन के वॉशिंग सेंटर चलाने वालों पर कार्रवाई होगी.

तारकेश्वर पाण्डेय, एई जलकल विभाग