हैदराबाद (एएनआई)। तेलंगाना में एक महिला और उसका परिवार कोरोना पाॅजिटिव पाया गया था। जांच के बाद सभी को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। अब सब लोग ठीक हो चुके हैं, मगर महिला को उसका पति नहीं मिला। महिला ने कहा कि वह और उसका परिवार, पति सहित गांधी अस्पताल में भर्ती हुए था। उन्होंने दावा किया कि उनके पति को 30 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसके बाद प्रबंधन ने उन्हें परिवार से जुड़ी कोई जानकारी नहीं दी या उनके सवालों का जवाब भी नहीं दिया।

महिला ने मंत्री को कर दिया ट्वीट

इसके बाद महिला ने 20 मई को तेलंगाना के आईटी मंत्री केटीआर को ट्वीट किया। उनके ट्वीट के बाद, तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री ईटेला राजेंद्र ने जवाब दिया और 21 मई को एक विज्ञप्ति में कहा कि गांधी अस्पताल के कर्मचारी सैकड़ों मरीजों का इलाज कर रहे हैं और सरकार COVID-19 मौतों के मामले में कोई रहस्य नहीं रख रही है। उन्होंने आगे कहा कि महिला के पति का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव निकला था और 30 अप्रैल को गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया था और एक मई को इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। उस वक्त परिवार के सभी सदस्य क्वारंटाइन में थे।

पत्नी को सदमा न लगे, इसलिए नहीं बताया गया

उस समय परिवार के रिश्तेदारों ने सुझाव दिया कि उसकी पत्नी को सदमे से बचाने के लिए उन्हें इस बात की जानकारी नहीं देनी चाहिए। इसलिए शव को 1 मई को दाह संस्कार के लिए पुलिस और बाद में जीएचएमसी को सौंप दिया गया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने उन अफवाहों को खारिज कर दिया कि परिवार के सदस्यों को बताए बिना दाह संस्कार किया गया था।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner