- सीएसआर फंड से बेसिक स्कूल्स का बदल रहा रंग रुप

- 450 स्कूल्स में उठी दरी, अब डेस्क-बेंच पर बैठकर पढ़ रहे स्टूडेंट्स

varanasi@inext.co.in

VARANASI

देश का भविष्य कहे जाने वाले बच्चे अब जमीन पर बैठकर नहीं पढ़ेंगे. जी हां परिषदीय विद्यालयों से दरी को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. जनपद में बेसिक शिक्षा परिषद से संचालित 46 विद्यालयों को मॉडल विद्यालय के रूप में विकसित किया गया है. इन विद्यालयों में स्मार्ट क्लास के तहत दो-दो कंप्यूटर, पि्रंटर, डेस्क-बेंच, रूम-टू-रीड, सफेद बोर्ड, आरओ, समर्सिबल पंप, टाइल्स, सहित अन्य सुविधाओं से लैस किया गया है. स्मार्ट क्लास की स्थापना सीएसआर फंड से कराई गई है.

अलग अलग कंपनियों ने बढ़ाया हाथ

गेल इंडिया ने सीएसआर फंड से 21 विद्यालयों को कंप्यूटर व प्रोजेक्टर, दिया था. वहीं नेशनल एल्यूमिनियम कंपनी (नालको) ने 20 विद्यालयों को स्मार्ट बनाया है. जबकि टीचर्स ने स्वयं के संसाधन से पांच विद्यालयों में कंप्यूटर, प्रोजेक्टर से बच्चों को पढ़ा रहे हैं. इसके अलावा 101 में आरओ, 580 विद्यालयों में रूम-टू-रीड (लाइब्रेरी) स्थापित की गई है.

450 स्कूल्स में लगा डेस्क बेंच

170 विद्यालयों में शुद्ध पेयजल के लिए समर्सिबल पंप लगवाए गए हैं. समर्सिबल पंप के लिए पावर फाइनेंस कारपोरेशन ने सीएसआर फंड से 2.18 करोड़ रुपये दिया है. जिले के करीब 450 विद्यालयों में दरी उठ चुकी है. इन विद्यालयों के बच्चे अब डेस्क-बेंच बैठ कर पढ़ कर रहे हैं. दूसरी ओर कोल इंडिया लिमिटेड ने 200 विद्यालयों में स्मार्ट क्लास बनवाने के लिए सीएसआर फंड से पांच करोड़ रुपये देने की स्वीकृति प्रदान की है. 50 विद्यालयों को स्मार्ट बनाने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी को भी प्रस्ताव भेजा गया था. एयरपोर्ट अथॉरिटी ने सीएसआर फंड से 27 परिषदीय विद्यालयों में कंप्यूटर व प्रोजेक्टर लगवाने के लिए 20 लाख रुपये की स्वीकृति दी है. एयरपोर्ट अथॉरिटी ने करीब पांच लाख रुपये की प्रथम किस्त जारी भी कर दी है. स्मार्ट क्लास इसी सत्र बनवाने की तैयारी है.

ऑपरेशन कायाकल्प के तहत इन स्कूलों के बच्चों को पढ़ने के लिए लर्निग लैब स्थापित किए जाएंगे. इसके अलावा बिल्डिंग, फर्श, दीवारों को मरम्मत, फूल-पौधों से विद्यालयों को आकर्षक बनाया जाएगा. डिस्ट्रिक्ट के 50 और स्कूल्स को मॉडल बनाने का डिसीजन लिया गया है.

जय सिंह, बीएसए

--------------------

इतने हैं बेसिक स्कूल्स

1014 प्राथमिक विद्यालय

354 उच्च प्राथमिक विद्यालय

1368 कुल विद्यालय

-----

स्टूडेंट्स की संख्या

138868 प्राथमिक विद्यालय

45778 उच्च प्राथमिक विद्यालय

184646 कुल पंजीकृत बच्चे