काम आयेगा महागठबंधन!
अपने राजनीतिक अस्तित्व के लिये इस उपचुनाव के महत्व को समझते हुये जेडीयू-आरजेडी-कांग्रेस के साझा उम्मीदवारों के लिये लालू और नीतीश ने कई विधानसभा क्षेत्रों में साथ मिलकर चुनावी सभाओं को संबोधित किया. इसी तरह बीजेपी के प्रदेश नेताओं ने एनडीए के अन्य घटक दल लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) सुप्रीमो रामविलास पासवान और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के साथ मिलकर अपने घटक दलों के उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार किया.

क्या कहते हैं आंकड़े
बिहार की हाजीपुर, छपरा, मोहिउद्दीनगर, परबत्ता, भागलपुर, राजनगर (एससी), जाले, मोहनिया (एससी), नरकटियागंज और बांका विधानसभा सीटों के लिये कुल 2422 मतदान केंद्रों पर होने वाले मतदान के दौरान 2642407 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. इसमें 1424937 पुरुष और महिला मतदाता शामिल हैं. आपको बता दें कि बिहार विधानसभा की इन 10 सीटों में से भागलपुर में सबसे अधिक 311690 मतदाता हैं और सबसे कम नरकटियागंज में 224843 मतदाता हैं. इसके अलावा इस उपचुनाव में भाग्य आजमा रहे 94 उम्मीदवारों में से 5 महिला शामिल हैं और सबसे अधिक 15 प्रत्याशी हाजीपुर और सबसे कम 6-6 प्रत्याशी राजनगर और बांका में हैं.

इलेक्शन कमीशन की कड़ी नजर
इलेक्शन कमीशन ने मतदान प्रक्रिया पर नजर रखने के लिये 888 माईक्रो आब्जर्वर की तैनाती के साथ 129 वीडियो कैमरा, 796 डिजिटल कैमरे और 165 मतदान केंद्रो पर लाइव वेब कास्टिंग की व्यवस्था की है. इसके अलावा नक्सल प्रभावित हाजीपुर, परबत्ता और बांका विधानसभा सीटों पर मतदान का समय सुबह 7 बजे से दोपहर 4 बजे तक रखा गया है. इलेक्शन कमीशन ने सुचारू और शांतिपूर्ण ढंग से मतदान संपन्न कराने के लिये सुरक्षा की भरपूर व्यवस्था की है. जिन विधानसभा क्षेत्रों में वोटिंग हो रही है वहां पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है. जिनमें केंद्रीय अर्धसैनिक बल और बिहार सैन्य पुलिस की 90 कंपनी के साथ 1962 पुलिस पदाधिकारी और 6000 सिपाही शामिल हैं.  

Hindi News from India News Desk           

National News inextlive from India News Desk