- हर पार्टी और प्रत्याशी ने उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, खुलेआम घूम-घूमकर मांगे वोट

- सोशल मीडिया और डोर टू डोर कैंपेनिंग चलती रही, प्रत्याशियों के समर्थकों ने घर घर जा कर बांटे पर्चे

kanpur@inext.co.in

KANPUR : चुनाव आयोग की तरफ से यूं तो वोटिंग से एक दिन पहले चुनाव प्रचार बंद हो जाता है. लेकिन नगर सीट के प्रत्याशियों ने चुनाव आयोग को ठेंगा दिखाते हुए ट्यूजडे को डंके की चोट पर लावलश्कर के साथ चुनाव प्रचार किया. इसमें कांग्रेंस प्रत्याशी श्रीप्रकाश जायसवाल सबसे आगे रहे. उन्होंने बकायदा एक केंद्रीय प्रतिष्ठान में जाकर अपना स्वागत कराने के साथ वोट मांगे. इसके अलावा कई अन्य प्रत्याशियों का भी कहीं गुपचुप तो कहीं खुलेआम प्रचार चलता रहा. वहीं प्रशासन का रवैया इस मामले में लचर ही नजर आया. वहीं सोशल मीडिया के जरिए भी पार्टी समर्थकों ने भी अपने कैंडीडेट की जमकर फिजा बनाई.

ओईएफ पहुंचे श्रीप्रकाश

प्रचार बंद होने से बेपरवाह कांग्रेंस प्रत्याशी श्रीप्रकाश जायसवाल मंगलवार दोपहर भ्.क्भ् बजे के करीब फूलबाग स्थित ओईएफ के गेट पर पहुंच गए. समर्थकों के हुजूम के साथ आए श्रीप्रकाश का स्वागत करने के लिए पहले से ही कर्मचारी यूनियन के नेता मौजूद थे. स्वागत के बाद श्री प्रकाश ने उनसे वोट की देने की अपील की.

नोटिस की खानापूर्ति, कार्रवाई जीरो

प्रत्याशियों के आचार संहिता उल्लंघन का यह कोई पहला मामला नहीं है, लेकिन आयोग की तरफ से प्रत्याशियों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है. आयोग की तरफ से सिर्फ नोटिस जारी करने का काम किया गया है. जिसका जवाब दाखिल करने के बाद हर बार प्रशासन ने सिर्फ हिदायत देकर मामले का निपटारा कर दिया. इसी वजह से पार्टियों और प्रत्याशियों में चुनाव आयोग का डर न के बराबर रह गया है. प्रशासन की ओर से भी सारी प्राथमिकता सिर्फ शांतिपूर्ण मतदान कराने की ही है.

खेला आखिरी दांव

चुनाव आयोग के मुताबिक प्रचार भले ही थम गया हो लेकिन सभी प्रत्याशी गुपचुप तरीके से जनसंपर्क में लगे रहे. नई सड़क, चमनगंज,बेकनगंज जैसे इलाकों में जहां एक पार्टी विशेष के प्रत्याशी के लिए पर्चेबाजी हुई. वहीं कई दूसरी जगहों पर भी समर्थकों ने घर घर जाकर वोट डालने की अपील करते हुए अपने प्रत्याशी के समर्थन में पर्चे बांटे. इसमें राष्ट्रीय पार्टियों समेत क्षेत्रीय पार्टियों के प्रत्याशी शामिल रहे.

सोशल मीडिया का इस्तेमाल

प्रशासन की ओर से सोशल मीडिया से होने वाले प्रचार पर नजर रखने के लिए भी एक टीम बनाई गई थी. लेकिन प्रचार बंद होने के बाद सोशल मीडिया ही प्रचार का सबसे बड़ा जरिया बन गया. जहां डॉ.मुरली मनोहर जोशी के समर्थन में सबसे ज्यादा पोस्ट फेसबुक पर अपडेट किए गए. वहीं सपा की ओर से भी उसके समर्थकों ने फेसबुक पर काफी अपडेशन किया. इसके अलावा वाट्स एप भी प्रचार का बड़ा माध्यम बना रहा.

दो प्रत्याशियों के खिलाफ नोटिस

जिला निर्वाचन कार्यालय की ओर से दो प्रत्याशियों को चुनाव खर्च का हिसाब नहीं देने पर नोटिस जारी किया गया है. निर्दलीय प्रत्याशी विश्वनाथ कटारिया और राष्ट्रीय समाज पार्टी के प्रत्याशी मो. अतीक के खिलाफ ट्रेजरी में आकर खर्च रजिस्टर समय पर नहीं दिखाने पर नोटिस जारी किया गया. जवाब देने के लिए उन्हें ख्ब् घंटे का समय दिया गया है.

हिस्ट्रीशीटरों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश

मतदान में गड़बडी फैलाने की आंशका को देखते हुए डीएम डॉ. रौशन जैकब ने ट्यूजडे को जिले के सभी थानेदारों को उनके क्षेत्रों के हिस्ट्रीशीटरों की धरपकड़ के आदेश दिए हैं. दरअसल बर्रा में एक प्रत्याशी के समर्थन में कुछ अपराधी किस्म के लोगों के मतदाताओं को धमकाने की सूचना के बाद यह कार्रवाई की गई. डीएम ने सभी थानेदारों को उनके इलाकों में रहने वाले हिस्ट्रीशीटरों के खिलाफ शांतिभंग की धाराओं में निरूद्ध करने के आदेश दिए हैं.