लखनऊ (ब्यूरो)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रूस यात्रा से वापसी के बाद कहा कि भारत और रूस के बीच कई क्षेत्रों में सहयोग की गुंजाइश है और यह जल्द ही धरातल पर नजर आएगी। यात्रा के दौरान यूपी ने रूस के साथ सात एमओयू और एक समझौता साइन किया। रूस में प्रचुर मात्रा में प्राकृतिक संसाधन और सुदूर पूर्वी क्षेत्र में लगभग 5 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र कृषि योग्य भूमि खाली पड़ी है। हमने प्रस्ताव रखा है कि आपके पास जमीन है, हमारे पास मैनपावर है। रूस में फूड प्रोसेसिंग की संभावनाओं को भारत आगे बढ़ा सकता है। रूस में भारत की विशेषज्ञता, तकनीकी व मैनपावर का उपयोग किया जा सकता है। रूस के बंदरगाहों की मदद से यूरोप के बाजारों तक हमारी पहुंच हो सकेगी। रूस यात्रा के दौरान वहां की कंपनियों से डिफेंस कॉरीडोर में निवेश करने का आमंत्रण भी दिया गया है। अगले माह पीएम मोदी की रूस यात्रा में ऐसी तमाम संभावनाओं पर मुहर लगेगी। दरअसल रूस में अगले महीने इकनोमिक फोरम की तरफ  से आयोजित कार्यक्रम में पीएम मोदी को मुख्य अतिथि बनाया गया है।

सात एमओयू हुए साइन

योगी ने भारत तथा रूस के बीच वर्ष 2025 तक 30 बिलियन डालर के द्विपक्षीय व्यापार तथा 50 बिलियन डालर के द्विपक्षीय निवेश का लक्ष्य रखा गया है। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के नेतृत्व में चार राज्यों के मुख्यमंत्री रूस यात्रा पर गए थे। इनमें सीएम योगी के अलावा हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी और गोवा के सीएम प्रमोद सावंत शामिल थे। इसके अलावा विशाल कारोबारी प्रतिनिधिमंडल के 190 सदस्य में से 145 उद्यमी भी थे। रूस की तरफ  से रूसी गणराज्य के डिप्टी पीएम यूरी तुर्कनेव, सात रीजन के गर्वनर के साथ करीब 200 उद्यमी ने भारत-रूस व्यापारिक संबंधों को लेकर विस्तृत रूप से चर्चा की। वहीं प्रदेश में डिफेंस कॉरीडोर में निवेश को आमंत्रित करने को अलग से एक प्रतिनिधिमंडल रूस जाकर वहां के उद्योगपतियों से मिलेगा। योगी ने कहा कि भारत खाद्यान्न के क्षेत्र में सबसे ज्यादा उत्पादन करने वाला देश है। हमारे पास वेजिटेबल, हॉर्टिकल्चर, एग्रीकल्चर, डायमंड प्रोसेसिंग व अन्य विभिन्न क्षेत्रों में जो विशेषज्ञता है उसका लाभ रूस को प्राप्त हो सकता है।

इन क्षेत्रों में एमओयू
सीएम योगी ने बताया कि यूपी और सुदूर पूर्वी रूस के जबाईकल्सकी क्राई क्षेत्र के मध्य एग्रीकल्चर और फूड प्रोसेसिंग, एकेडेमिक एवं कल्चरल एक्सचेंज को बढ़ाने के उद्देश्य से शिक्षा एवं शोध के क्षेत्र में एमिटी यूनिवर्सिटी तथा रूस की फॉर ईस्ट फेडरल यूनिवर्सिटी के बीच एमओयू हुआ है। इसके अलावा नेशनल स्किल डेवलेपमेंट एंड एक्सपोर्ट एजेंसी का एमओयू और सेंटर फॉर योग स्थापित करने के संबंध में एक समझौता संपन्न हुआ है। इसके तहत एलाना संस एवं लुलु एओवी एग्रो एक्सपोर्ट द्वारा एमओयू किया गया है।

इन क्षेत्रों में निवेश की संभावना
- एग्रीकल्चर, फूड प्रोसेसिंग, रिनीवेबल इनर्जी, टूरिज्म, टिम्बर, हेल्थकेयर, हास्पिटल, आयल, गैस और ऊर्जा, मेटल, मिनरल, रेयर अर्थ एवं फिशरीज, स्किल डेवलमेंट, एजूकेशन व एचआर।

अलग-थलग पड़ चुका है पाकिस्तान
वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा हाल ही में दिए गये एक बयान को लेकर पूछे गये सवाल के जवाब में सीएम योगी ने कहा कि पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ चुका है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री विकास नहीं, विनाश के बारे में उतावले हैं। उनके बारे में चर्चा करना बेकार है क्योंकि हम मानवता के कल्याण के मार्ग पर चल रहे हैं।

lucknow@inext.co.in

National News inextlive from India News Desk