परिवहन मुख्यालय ने दिया अनुबंधित डीजल बसों को सीएनजी में प्रतिस्थापित करने का आदेश

यात्रियों को रात के सफर में मिलेगा एसी स्लीपर बस सेवा का लाभ

Meerut. परिवहन विभाग अब रोडवेज यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए अपनी कई सेवाओं में इजाफा करेगा. यात्रियों की सुविधा के साथ-साथ रोडवेज प्रदूषण फैलाने वाली बसों को भी हटाएगा. इसके तहत रोडवेज ने एनसीआर क्षेत्र में संचालित होने वाली अनुबंधित डीजल बसों का संचालन बंद कर सिर्फ सीएनजी वाली अनुबंधित बसों का संचालन शुरू करने की तैयारी कर ली है. इससे अलग यात्रियों को लंबे सफर के दौरान अब एसी स्लीपर बसों की सौगात देने के लिए भी रोडवेज ने कमर कस ली है. रोडवेज के आरएम नीरज सक्सेना ने बताया कि मुख्यालय स्तर पर आयोजित बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं. इन निर्णयों के अनुसार जल्द ही व्यवस्थाएं भी लागू की जाएंगी.

कुंभ के लिए नि:शुल्क बस सेवा

परिवहन मुख्यालय में आयोजित परिवहन निगम के निदेशक मंडल की 220वीं बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णयों पर प्रस्ताव को स्वीकृत किया गया. इनमें प्रयागराज में आयोजित कुंभ 2019 मेले के लिए 500 शटल बसों का नि:शुल्क प्रयागराज तक संचालन करने का निर्णय लिया गया. इस निर्णय के तहत मेरठ के यात्रियों को भी शटल बसों से नि:शुल्क यात्रा का लाभ मिल सकता है.

दिल्ली-एनसीआर में सीएनसी बसें

दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में डग्गेमारी और प्रदूषण दोनों पर लगाम लगाने के लिए रोडवेज ने अनुबंधित बसों के संचालन को लेकर बड़ा निर्णय लिया है. परिवहन निगम साधारण अनुबंधित बसों को सीएनजी बसों में प्रतिस्थापित करेगा. इसके बाद केवल उन्हीं अनुबंधित बसों को दिल्ली-एनसीआर में प्रवेश मिलेगा, जो सीएनजी हैं. इससे डग्गामार डीजल बसों पर भी काफी हद तक लगाम लगेगी.

एसी बसों का संचालन

लंबी दूरी या रात्रि का सफर करने वाले यात्रियों के लिए अब रोडवेज स्लीपर एसी बसों का संचालन करेगा. इस योजना के तहत 2*1 लेआउट की 30 सीटर बसों का अनुबंध किया जाएगा. इन बसों में किराया 190 पैसे प्रति किमी के हिसाब से वसूली जाएगा. साथ ही इस सेवा में यात्रियों को बेड रोल भी दिया जाएगा.

बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय

सुरक्षा की दृष्टि से निर्भया योजना के तहत बसों में सीसीटीवी कैमरा ओर पैनिक बटन लगाए जाएंगे.

पीपीपी मॉडल के अनुसार होगा 21 बस स्टेशनों का विकास, जिसमें मेरठ के सोहराबगेट और भैंसाली डिपो भी शामिल.

बस स्टैंड पर ब्रांडेड फूड, बेवरेज व आईसक्रीम चेन के स्टोर खुलेंगे.

बसों के चालक-परिचालक ऑन ड्यूटी अब वर्दी में दिखेंगे, इसमें संविदा चालक भी शामिल होंगे.

जनरथ बसों का संचालन उनकी आयु के हिसाब से छोटे रुटों पर होगा.