कानपुर। Aarogya setu app how to Use in Hindi: कैसे करें आरोग्‍य सेतु का इस्‍तेमाल: यह ऐप भले ही आपको एक साधारण ऐप जैसी दिखती हो, लेकिन इसकी एक बड़ी खासियत है। एंड्रॉयड और आईफोन दोनों पर उपलब्‍ध यह ऐप जीपीएस यानि फोन की लोकेशन और उसके ब्‍लूटूथ कनेक्‍शन की मदद से आपके आसपास मौजूद लोगों की डीटेल्‍स भी पता करती रहती है। मान लीजिए आप कहीं भी जाएं तो फोन का जीपीएस आपकी लोकेशन ट्रैक करेगा, जबकि ब्‍लूटूथ की मदद से यह ऐप आसपास मौजूद लोगों के फोन की समान ऐप को ट्रेस करके उनका लगातार मिलान करती रहती है। इसका फायदा यह होता है कि अगर बाईचांस आप किसी फलां जगह पर एक अन्‍य आरोग्‍य सेतु ऐप होल्‍डर के संपर्क में आए और इसके कुछ दिन बाद वो व्‍यक्ति या उसके घर का कोई मेंबर कोरोना पॉजिटव पाया जाएगा। अब आरोग्‍य सेतु ऐप अपना असली कमाल दिखाएगी और आपको बता देगी कि उस दिन फलां जगह पर आप एक व्‍यक्ति के संपर्क में आए थे और आज वो या उसके परिवारीजन में कोरोना पाया गया है। तो अब आप एलर्ट पर हैं।

आरोग्‍य सेतु एप करेगा एलर्ट जब आप होंगे हाई रिस्‍क जोन में

अगर आपके फोन की आरोग्‍य सेतु एप आपको हाई रिस्‍क का एलर्ट दिखाए तो घबराएं नहीं। समझिए अब आपको तुरंत ही आइसोलेट होने की जरूरत है, या बीमारी का जरा सा भी कोई लक्षण महसूस होने पर आपको अपना टेस्‍ट कराना होगा। तो ऐसी स्थिति में आपको फौरन ही कोरोना हेल्‍पलाइन पर फोन करके उन्‍हें सबकुछ बताना चाहिए, ताकि जल्‍द से जल्‍द आप सुरक्षित हो सकें। कुल मिलाकर कहें, तो देश में जितने ज्‍यादा लोगों के स्‍मार्टफोन में आरोग्‍य सेतु ऐप इंस्‍टॉल होगी, देश में कोरोना की ट्रेसिंग उतनी ही ज्‍यादा सटीक और मजबूत हो जाएगी। यही वजह है कि पीएम मोदी से लेकर तमाम लोग फोन में आरोग्‍य सेतु ऐप डाउनलोड करने की अपील कर रहे हैं। फिलहाल अभी तक आरोग्‍य सेतु एप को 5 करोड़ से अधिक बार डाउनलोड किया जा चुका है। यहां हम आरोग्‍य सेतु ऐप को इंस्‍टॉल करने के लिए जरूरी लिंक दे रहे हैं।

एंड्रॉयड यूजर्स क्लिक करें: https://play.google.com/store/apps/details?id=nic.goi.aarogyasetu

आईओएस यूजर्स क्लिक करें: https://apps.apple.com/in/app/aarogyasetu/id1505825357

जिसके पास है 'aarogya setu' app वो सबसे पहले जीतेगा कोरोना के खिलाफ लड़ाई,ऐसे करें इस्‍तेमाल

एप इंस्‍टॉल करने के बाद क्‍या करें

आरोग्‍य सेतु एप प्‍लेस्‍टोर से इंस्‍टॉल करने पर सबसे पहले यह आपसे अपनी भाषा सलेक्‍ट करने को कहता है। इसके बाद यह एप आपसे मोबाइल नंबर समेत कुछ अन्‍य जरूरी डीटेल्‍स फीड करने को कहता है। इस एप में ओटीपी के द्वारा फोन नंबर वेरीफाई किया जाता है। फिर यह आपकी डीटेल्‍स और लोकेशन का सरकार के डेटाबेस से मिलान करके आपके लिए कोरोना के कॉमन रिस्‍क लेवल बताता है। यह ऐप ब्‍लूटूथ और लोकेशन ट्रैकर को हर वक्‍त ऑन रखने को कहता है। बस आपको जरूरत इस बात की है कि इस ऐप पर सही जानकारी ही फीड करें, अन्‍यथा आप और आपके आसपास वालों को ही खतरे का आभास नहीं होगा। यहां दी गई सही जानकारी ही कोरोना को भारत से मिटाने में सरकार की हेल्‍प करेगी।

India COVID-19 Tracker यानि Aarogya Setu app ऐसे बचाता है Corona के संक्रमण से, जानें इसके फायदे

Coronavirus Tracker India Live Update: भारत सरकार की वेबसाइट mygov.in/covid-19 में जारी फाइनल आंकड़ों के मुताबिक 21 अप्रैल को सुबह 8 बजे तक देश में कोरोना वायरस के कुल एक्टिव केस 14,759 हैं। इनमें वो 3251 लोग शामिल नहीं हैं, जो इलाज के बाद कोरोना बीमारी से ठीक हो चुके हैं और अपने घर जा चुके हैं। देश में अब तक कोविड-19 के कारण 590 लोगों की मौत हो चुकी है।

Posted By: Chandramohan Mishra

Technology News inextlive from Technology News Desk

inext-banner
inext-banner