मुंबई (महाराष्ट्र) (एएनआई)। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीम ने बुधवार को मुंबई के वर्सोवा में समुद्र के पास स्थानीय निवासियों को बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की मदद से बसों के माध्यम से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। चक्रवात निसर्ग की वजह से होने वाले लैंडफाॅल को लेकर पूरे राज्य में NDRF और BMC द्वारा निकासी अभियान चलाया जा रहा है। बीएमसी के अनुसार मुंबई फायर ब्रिगेड को आपात स्थिति के मामले में तुरंत प्रतिक्रिया देने के लिए सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है। एहतियात के तौर पर छह तटों पर कुल 93 लाइफगार्ड तैनात किए गए हैं।

35 स्कूलों को अस्थायी आश्रयों में बदल दिया गया

इसके अलावा, एनडीआरएफ की आठ इकाइयों और भारतीय नौसेना की पांच इकाइयों को वित्तीय राजधानी के आसपास विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया है। बीएमसी ने कहा कि लगभग 35 स्कूलों को अस्थायी आश्रयों में बदल दिया गया है, और नागरिकों से अपील की जाती है कि वे अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करें। स्थानीय अधिकारियों ने चक्रवात के कारण रायगढ़ जिले के अलीबाग में एक स्कूल में स्थापित एक राहत शिविर में 390 लोगों को स्थानांतरित कर दिया है। रायगढ़ कलेक्टर निधि चौधरी ने कहा, जिले में कुल 13,541 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

राज्य भर में एनडीआरएफ की 20 टीमें हुईं तैनात

स्पीयर-हेडिंग एनडीआरएफ महाराष्ट्र, कमांडेंट अनुपम श्रीवास्तव ने कहा कि राज्य भर में 20 टीमों को तैनात किया गया है, जिसमें पांच टीमें शामिल हैं जिन्हें विशाखापत्तनम से एयरलिफ्ट किया गया था, ताकि निकासी अभियानों में सहायता की जा सके। श्रीवास्तव ने एएनआई को बताया, राज्य के विभिन्न समुद्री इलाकों से अब तक लगभग 40,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। चक्रवात के मद्देनजर अधिकारियों द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार मछुआरों को समुद्र में न जाने को कहा गया है।

महाराष्ट्र के उत्तरी तट से टकराने की आशंका

भारत के मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, चक्रवात के दोपहर 1 से शाम 4 बजे के बीच महाराष्ट्र के उत्तरी तट से टकराने की आशंका है। 100-120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा के साथ, चक्रवात निसर्ग भारी वर्षा के साथ आएगा। आईएमडी मुंबई के वैज्ञानिक शुभांगी भूटे ने कहा, कल सुबह तक इसे कम होना चाहिए। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कार्यालय की ओर से लोगों को सलाह दी गई है कि वे घर के अंदर रहें या प्रशासन-निर्धारित स्थान पर स्थानांतरित हों।

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk