- अब सरदार पटेल हॉस्टल के तीन कमरों में चोरी, सीसीटीवी कैमरा भी खराब

-- पहले भी हो चुकी हैं कई चोरियां, मगर नहीं पकड़े जा सके चोर

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में मेडिकोज की सिक्योरिटी भगवान भरोसे है. हॉस्टल्स में लगे सीसीटीवी कैमरे बंद पड़े हैं और मेडिकोज के कमरों से सामान लगातार चोरी हो रहा है. कुछ दिन पहले ट्रॉमा सेंटर में मोबाइल और लैपटॉप चोरी होने के बाद अब सरदार पटेल हॉस्टल में मेडिकोज के इम्पॉर्टेट डॉक्यूमेंट और कई मोबाइल व लैपटॉप चोरी हो गए. सीसीटीवी कैमरा निगरानी नहीं सिर्फ डराने का काम कर रहे हैं.

सुबह तड़के हो गई चोरी

सरदार पटेल हॉस्टल में मेडिकोज सुबह सो रहे थे. उसी समय चोर ख्0क्0 बैच के स्टूडेंट प्रमोद यादव-(रूम ख्फ्ख्) में घुसा और उसका सोनी एक्सपीरिया व सैमसंग का स्मार्ट फोन और उसका बैग ले गया. उसके बैग में रजिस्ट्रेशन पेपर, पैन कार्ड, यूनिवर्सिटी का आईकार्ड, वोटर आईकार्ड, बाइक के पेपर सहित मार्कशीट्स व अन्य सारे डॉक्यूमेंट्स थे. वहीं कमरा नम्बर ख्फ्भ् में सुनील कुमार के नोकिया और सैमसंग का स्मार्टफोन और एक लेनेवो का टेबलेट पार कर दिया. इसके अलावा कमरा नम्बर ख्फ्9 में रविकांत वर्मा का सैमसंग का मोबाइल व कुछ अन्य सामान चोरों ने पार कर दिया. मेडिकोज के मुताबिक चोरी सुबह ब्.फ्0 के बाद हुई क्योंकि ब् बजे तक वे सब जाग रहे थे. सभी ने चौक थाने में मामले की तहरीर दी है. लेकिन दो दिन बीतने के बाद भी पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

ट्रॉमा सेंटर में भी अब तक न मिले मोबाइल

ट्रॉमा सेंटर में भी हड्डी रोग विभाग के रेजीडेंट डॉक्टर्स के मोबाइल फोन व लैपटॉप चोरी हो गए थे. लगातार तीन दिन तक रेजीडेंट्स का सामान चोरी हुआ. इसकी शिकायत भी पुलिस में दी गई. सामान न मिलने पर रेजीडेंट्स ने एक कर्मचारी की पिटाई कर दी थी जिसके बाद लैपटॉप एक ओटी में रखा हुआ मिल गया था. लेकिन अभी तक मोबाइल फोन बरामद नहीं किए जा सके. जब डॉक्टर्स ने सीसीटीवी कैमरा में जांच के लिए कहा तो पता चला कि वहां के सीसीटीवी कैमरा काम ही नहीं कर रहे हैं.

बुद्धा हॉस्टल में भी हुइ थी चोरी

दो साल पहले ही बुद्धा हॉस्टल और सरदार पटेल हॉस्टल के साथ ट्रॉमा सेंटर से भी कई रेजीडेंट्स व स्टूडेंट्स की बाइक चोरी हो गई थी. ज्यादातर बाइक पल्सर थी. सभी ने मामलों की एफआईआर दर्ज कराई लेकिन किसी की बाइक नहीं मिली. पुलिस ने सीसीटीवी खंगाले लेकिन इन सीसीटीवी में किसी चोर का चेहरा साफ दिखा नहीं. उस समय भी केजीएमयू प्रशासन ने सीसीटीवी को सुधारने का दम भरा था लेकिन उसके बाद तो सीसीटीवी एक दम खामोश हो गए.

यह गम्भीर विषय है. स्टूडेंट्स के हॉस्टल्स में सिक्योरिटी बढ़ाई जाएगी. सीसीटीवी कैमरा होने के मामले की जांच की जाएगी ताकि स्टूडेंट सुरक्षित वातावरण में पढ़ाई कर सकें.

- प्रो. आरके सरन,

डीन स्टूडेंट वेलफेयर