फेसबुक को बनाओ ऐेसा कि लोकतंत्र रहे सुरक्षित अमरीका में एफबी के खिलाफ बड़ी अपील

2018-05-21T19:15:55Z

कैंब्रिज एनालिटिका केस के बाद से फेसबुक के ऊपर रोज ही नए आरोप लगते रहते हैं। ताजा मामले में अमरीका के एक सोशल ग्रुप ने फेडरल एजेंसी से कहा है कि लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए फेसबुक को और भी ज्‍यादा सुरक्षित बनाइए वर्ना आगे न जाने क्‍या होगा।

फेसबुक के बढ़ते एकाधिकार के खिलाफ की अपील और लॉन्च किया विरोधी कैंपेन

सैन फ्रांसिस्को (IANS) डेटा लीक मामले में फंसने के बाद से फेसबुक पर एक के बाद एक आरोपों की झड़ी लगी हुई हैं। प्रगतिशील वकालत समूह की एक टीम ने अमेरिकी फेडरल ट्रेड कमीशन (एफटीसी) से बाजार में सोशल मीडिया जायंट के एकाधिकार को तोड़कर लोकतंत्र के लिए फेसबुक को सुरक्षित बनाने को कहा है। टेक वेबसाइट एक्सीऑस के मुताबिक इस सोशल ग्रुप ने फ्रीडम फ्रॉम फेसबुक नाम से एक कैंपेन सोमवार से लॉन्च किया है, जिसमें 6 खास आंकड़ों के साथ फेसबुक, टि्वटर और इंस्टाग्राम पर जमकर पोस्ट का जा रही हैं और लोगों को बताया जा रहा है कि फेसबुक का हमारे जीवन पर कितना ज्यादा असर हो रहा है और हमें जरूरत है कि हम उसके एकाधिकर से बचें। यह ग्रुप एफटीसी पर भी यह दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है कि वो सोशल मीडिया जायंट फेसबुक का एकाधिकार खत्म कराए।

 

लोगों की प्राइवेसी बचाने को कड़े रूल्स लागू करने का दबाव

यह सोशल एडवोकेसी ग्रुप चाहता है कि एफटीसी ऑनलाइन प्राइवेसी रूल्स को और कड़ा कर दे ताकि लोग फेसबुक जैसे प्लेटफॉर्म पर बिना किसी जासूसी के खुलकर आपसी संवाद और चैट कर सकें। टेकक्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक हालांकि फेसबुक पहले ही यूजर प्राइवेसी को लेकर काफी सतर्क हो गया है और उसने इसे लेकर एक प्राइवेसी गाइड भी जारी की है। जो बताती है कि वो अपने ब्राउजर पर कुछ एक्सटेंशन का इस्तेमाल करके कैसे फेसबुक विज्ञापनों को स्ट्रीमलाइन कर सकते हैं। साथ ही किसी भी तरह के जासूसी विज्ञापनों से भी बच सकते हैं।

इतने विवादों के बावजूद फेसबुक के उछाल मारते बिजनेस ने आम लोगों में पैदा किया संदेह

कैंब्रिज एनालिटिका डेटा ब्रीच विवाद के बाद ढेरों जांचों और अमरीकी कॉंग्रेस का सामना करने वाली फेसबुक कंपनी अब भी इतने फायदे में चल रही है। पहले क्वार्टर में वॉल स्ट्रीट की रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक $11.97 बिलियन डॉलर के रेवेन्यू के साथ बेहतरीन रैकिंग कर रही है। तमाम रिपोर्ट अब यह दावा कर रही हैं कि इतने विवादों के बाद भी फेसबुक के ग्रो करते बिजनेस को देखकर लोगों का भरोसा जांच एजेंसियां से उठ सा रहा है। शायद उन्हें लग रहा है कि फेडरल जांच एजेंसिंया इन टेक कंपनियों के कामकाज पर लगाम लगाने में असमर्थ हैं। यही वजह है कि कई ग्रुप खुद ही फेसबुक के विरोध में अपनी कैंपेन छेड़ रहे हैं।


यह भी पढ़ें:

ये डिवाइस आपके स्मार्टफोन की बैट्री लाइफ बढ़ा देगी 100 गुना!

मनपसंद कंप्यूटर गेम्स अब डायरेक्ट प्ले कीजिए अपने एंड्रॉयड फोन पर, यह है Smart तरीका

गूगल ला रहा है आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस वाला हेडफोन, जो आपकी एक आवाज पर कर देगा काम तमाम!


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.