सीएम योगी ने कसे अधिकारियों के पेंच कहा कानून व्यवस्था में कोताही नहीं होगी बर्दाश्त

2019-06-13T10:23:31Z

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था की समीक्षा के लिए बुधवार को सभी डीएम और एसएसपी/एसपी को तलब किया।

- डीएम-एसपी सुबह 9-10 तक सुनेंगे जनता की समस्याएं
- कानून व्यवस्था के लिए डीएम-एसपी की संयुक्त रूप से जिम्मेदारी

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : सीएम योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था की समीक्षा के लिए बुधवार को सभी डीएम और एसएसपी/एसपी को तलब किया। प्रदेश में बच्चियों के साथ दङ्क्षरदगी और महिलाओं के खिलाफ आपराधिक घटनाओं से नाराज सीएम ने अफसरों की जमकर क्लास लगाई। उन्होंने दो टूक कहा कि कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए डीएम और एसएसपी संयुक्त रूप से जिम्मेदार हैं। इस मोर्चे पर कोताही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
आपराधिक घटनाओं से छवि को दाग
अलीगढ़, हमीरपुर और कुशीनगर में बीते दिनों बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाओं का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि सरकार चाहे जितने विकास कार्य करा दे, लेकिन ऐसी घटनाएं उसकी छवि पर दाग लगा देती हैं। प्रदेश की सभी 18 पुलिस रेंज और जिलों में पॉक्सो एक्ट और बाल अपराधों से जुड़े 10-10 मामलों को चिन्हित कर फास्ट ट्रैक कोर्ट के माध्यम से अपराधियों को सजा दिलाई जाए। उन्होंने बाराबंकी में जहरीली शराब कांड को लेकर भी नाराजगी जताई।सीएम ने निर्देश दिया कि डीएम-एसपी रोज अनिवार्य रूप से सुबह नौ से दस बजे तक लोगों की समस्याएं सुनें। अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए ïफुट पैट्रोलिंग और यूपी 100 के वाहनों के रूट को नए सिरे से निर्धारित करने के लिए कहा। हर थाने में टॉप 10 अपराधियों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करें।

तैनाती स्थल पर ही रात में रुकें अफसर

सीएम ने कहा कि एसडीएम, तहसीलदार, बीडीओ, क्षेत्राधिकारी, थानाध्यक्ष सरीखे अधिकारी रात में अपनी तैनाती स्थल पर ही रुकेंगे। यदि उनके तैनाती स्थल पर सरकारी आवास नहीं बने हैं तो वे किराये पर मकान लेकर रहें।
सरकारी जमीन खाली कराकर बनाएं खेल के मैदान
योगी ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में जो सरकारी भूमि अवैध कब्जे से खाली करायी जाए उन पर खेल के मैदान या चरागाह विकसित किये जाएं। शहरों में सरकारी जमीनों को अतिक्रमण से मुक्त कराकर उन पर पार्क और ओपेन जिम विकसित करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही योगी ने अवैध बूचडख़ानों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। शहरों में अवैध तरीके से संचालित कैटल कालोनियों को भी हटाने का निर्देश दिया।
विकसित करें वेंडिंग जोन
सड़कों पर अवैध अतिक्रमण के लिए यातायात समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए सीएम ने जिलाधिकारियों को शहरों में वेंडिंग जोन को चिन्हित कर सभी रेहड़ी-खोमचे वालों को उनमें जगह आवंटित करने के लिए कहा।
सीएम योगी पर अभद्र टिप्पणी करने वाले पत्रकार प्रशांत को सुप्रीम कोर्ट से जमानत
'अब अधिकारियों का तबादला होने पर जनता कहती है कि अच्छा हुआ, चला गया, जबकि पहले कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार अफसरों का तबादला रुकवाने के लिए जनता आंदोलन करती थी।'
- योगी आदित्यनाथ, सीएम


Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.