Doctors Strike AIIMS समेत देश भर में डाॅक्टर्स हड़ताल पर ओपीडी सेवाएं ठप

2019-06-17T12:01:14Z

बंगाल में जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट के बाद से डाॅक्टरों में गुस्सा व्याप्त है। आज आईएमए ने एक दिन की हड़ताल की है। दिल्ली एम्स व देश भर के दूसरे अस्पतालाें के डाॅक्टर व डाॅक्टर संगठन भी इस हड़ताल में शामिल हैं। एम्स का कहना है कि एमरजेंसी सेवाओं पर हड़ताल का असर नहीं पड़ेगा।

नई दिल्ली (पीटीआई)। हाल ही में कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों के साथ मारपीट की घटना हुई थी। इसके बाद से डाॅक्टराें में नाराजगी बनी है और यह मामला दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है। देश के अलग-अलग राज्यों के सभी डॉक्टर प्रदर्शनकारी रेजिडेंट डॉक्टरों की मांगें नहीं पूरी होने से नाराज चल रहे हैं। ऐसे में आज डॉक्टरों के सबसे बड़े संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने देशव्यापी हड़ताल की है। इतना नहीं आईएमए के सदस्य मुख्यालय में एक धरना भी करेंगे।
दोपहर बाद से एम्स के डाॅक्टर भी हड़ताल करेंगे

वहीं दिल्ली में इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के  रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन आज दोपहर बाद से कुछ घंटों के लिए हड़ताल करेंगे। उन्होंने सुबह 8 से 9 बजे के विरोध मार्च भी निकाला। आरडीए का कहना है कि हम एक बार फिर पश्चिम बंगाल प्रशासन से हड़ताली चिकित्सकों की मांगों को पूरा करने का आग्रह करते हैं। हम इस बात को लेकर चिंतित हैं कि इससे जनता को भी परेशानी हो रही है। मंगलवार सुबह 6 बजे के बाद आगे की कार्रवाई के लिए निर्णय लिया जाएगा।
दिल्ली के ये इन अस्पतालाें में डाॅक्टर ने की हड़ताल
वहीं राजधानी में दिल्ली में एम्स के अलावा सफदरजंग अस्पताल, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, आरएमएल अस्पताल, जीबीटी अस्पताल, डॉ बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल, संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल और दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल के डॉक्टर हड़ताल में शामिल हो रहे हैं। आईएमए ने कहा सभी आउट पेशेंट विभाग (ओपीडी) सेवाएं, नियमित सेवाएं और वार्ड का दाैरा आदि 24 घंटे तक नहीं होगा। इन्हें सोमवार को सुबह 6 बजे से मंगलवार सुबह 6 बजे तक रोक दिया गया है।
ममता बनर्जी काे 48 घंटे का ये अल्टीमेटम देकर काम पर लाैटे दिल्ली AIIMS व सफदरजंग के डॉक्टर
आज बीमार न पड़ना, प्रयागराज के सभी डाॅक्टर्स हड़ताल पर हैं
अस्पतालों में आपातकालीन सेवाएं रहेंगी जारी
दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (डीएमए) और फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (FORDA) ने भी हड़ताल को समर्थन दिया है। डीएमए का कहना है कि 17 जून से सुबह 6 से अगले को 24 घंटे तक के लिए गैर-आवश्यक सेवाओं को रोक दिया गया है। हालांकि कैजुअल्टी, आईसीयू और लेबर रूम सहित आपातकालीन सेवाओं को जारी रखा जाएगा। पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टर 11 जून से हड़ताल पर हैं। कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में मरीजों के परिजनों ने उनके साथ मारपीट की थी।


Posted By: Shweta Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.