हसरत पूरी न होने पर काट दिया पत्नी का गला जंगल में मिली डेडबॉडी

2019-06-04T10:56:54Z

खोराबार एरिया के कुसम्ही जंगल में चाकू से गला रेतकर कत्ल की गई युवती की पहचान सोमवार को हुई

- कुसम्ही जंगल में मिली डेडबॉडी की हुई पहचान, पति अरेस्ट

- महराजगंज जिले के पनियरा थाना की पुलिस कर रही जांच पड़ताल

gorakhpur@inext.co.in

GORAKHPUR : खोराबार एरिया के कुसम्ही जंगल में चाकू से गला रेतकर कत्ल की गई युवती की पहचान सोमवार को हुई. वह महराजगंज जिले के पनियरा एरिया के अकटहिया की मरजीना उर्फ रुकैया की थी. औलाद पैदा न होने पर उसका पति हसरत नाराज रहता था. दूसरी शादी करने के चक्कर में दोस्त की मदद से उसने बीवी का गला रेत दिया. पनियरा पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है. उधर रविवार की शाम मिली अज्ञात महिला की पहचान नहीं हो सकी. प्रभारी एसओ अनिल उपाध्याय ने कहा कि जल्द ही उसकी भी पहचान कर ली जाएगी.

 

कपड़े-फोटो देख दहाड़ मार रोया पिता

नौ मई को कुसम्ही जंगल में करीब 25 साल की युवती की डेडबॉडी मिली. उसका गला रेता गया था. डेडबॉडी के पास एक चाकू मिला. मौके पर कातिल से संघर्ष के निशान पाए गए. मामला सामने आने पर शाहपुर के बिछिया और सिद्धार्थनगर जिले के लोग डेडबॉडी की पहचान कराने पहुंचे लेकिन युवती की पहचान नहीं हो सकी. सोमवार को पनियरा पुलिस के साथ ताजीर अली पहुंचे. कपड़े और फोटो देखकर वह रोने लगे. उन्होंने युवती की पहचान अपनी बेटी मरजीना उर्फ रुकैया के रूप में कर ली.


दोस्त की मदद से काटा गला

ताजीर के साथ उनका दामाद बभनौली मोहल्ले का हसरत अली भी था. उसने पुलिस को बताया कि मरजीना को औलाद नहीं पैदा हो रही थी इसलिए वह दूसरी शादी करने के चक्कर में पड़ गया. इसको लेकर दोनों के बीच विवाद हुआ. इससे नाराज होकर मरजीना अपने मायके चली गई. उसे रास्ते से हटाने के लिए हसरत ने योजना गढ़ी. पत्‌नी को घुमाने के बहाने कुसम्ही जंगल की तरफ ले आया. अपने दोस्त की मदद से जंगल में ले जाकर चाकू से गला रेतकर फरार हो गया. हसरत को लेकर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची. उसने पुलिस को बता दिया कि मर्डर के दौरान पत्नी ने विरोध किया लेकिन दोस्त की मदद से वह अपने मकसद में कामयाब हो गया.


जंगल में मर्डर करके फेंकी गई एक डेडबॉडी की पहचान सोमवार को हुई. पति ने सब्जी काटने वाले चाकू से उसका गला रेता था. इस मामले में पनियरा पुलिस कार्रवाई में जुटी है. युवती के लापता होने का मुकदमा उसके पिता ने दर्ज कराया था.

- अनिल कुमार उपाध्याय, प्रभारी थानेदार, खोराबार

Posted By: Syed Saim Rauf

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.