International Yoga Day 2020: योग दिवस पर मोटापे से निजात पाने के लिए अपनाएं यह आसन

International Yoga Day 2020: योग से जहां शारीरिक और मानसिक तनाव को कम किया जा सकता है। वहीं यह अनेक बीमारिओं और रोगों से भी छुटकारा दिलाने में भी फायदेमंद होता है।

Updated Date: Sun, 21 Jun 2020 07:36 AM (IST)

International Yoga Day 2020: आजकल की लाइफस्टाइल और फास्ट फ्रूड की वजह से ज्यादातर लोग मोटापे की प्रॉब्लम से परेशान हैं। इससे निजात पाने के लिए लोग अनेक जतन करते हैं जिम जाते हैं, एक्सरसाइज करते हैं, सुबह-शाम वॉक पर जाते हैं तथा डाइटिंग भी करने लगते हैं फिर भी वह अपने मोटापे को कम करने में सफल नहीं हो पाते हैं। लेकिन योगा के कुछ खास आसनों से मोटापे को कम करने में काफी मदद मिलती है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही आसनों के बारे में बताएंगे, जिसको नियमित करने से मोटापा काफी हद तक कम हो सकता है।

अर्धचक्रासन
अर्धचक्रासन करने से पेट के आसपास वाले हिस्से पर दबाव पड़ता है। इसी के कारण पेट की चर्बी कम होती है। इसके अलावा इस आसन को रोज करने से कब्ज, सूजन और अन्य पाचन संबंधी समस्याएं कम होने लगती है।

आसन करने का तरीका-
सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। इसके बाद अपने हाथों को अपनी कमर पर रख लें और अपनी धड़ को पीछे की ओर झुकाएं। कोशिश करें कि आपका धड़ ज्यादा से
ज्यादा पीछे की ओर झुका हुआ हो। इस अवस्था में करीब तीन से पांच मिनट तक रहते हुए सांस लें और छोड़े।

धनुरासन
धनुरासन शरीर के सही आकार के लिए बहुत फायदेमंद है। इस आसन को करने के लिए पूरे शरीर का यूज किया जाता है। यह आसन फैट तो कम करता ही है
साथ ही यह हाथों और पैरों को भी मजबूत करने में हेल्पफुल होता है।

आसन करने का तरीका
इस आसन को करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। अब सांस छोड़ते हुए घुटनों को मोड़ते हुए कमर के पास ले आएं और अपने हाथ से दोनों टखनों को पकड़ें। सांस लेते हुए आप अपने सिर, छाती और जाघं को ऊपर की ओर उठाएं। जितना पॉसिबल हो, उतना बॉडी को ऊपर की ओर उठाएं। इस दौरान अपने बॉडी के वेट को पेट के लोवर पार्ट पर लेने की कोशिश करें। जब आप पूरी तरह से अपनी बॉडी को उठा लें, तब पैरों के बीच फासले को कम करने की कोशिश करें। इस आसन को करते समय धीरे धीरे सांसे लें और धीरे धीरे संास छोड़ें। लगभग 15-20 सेकेंड तक ऐसे ही रहने के बाद सांस छोड़ते हुए पहले वाली पोजीशन में वापस लौट जाएं। इस आसन को आप चार से पांच बार कर सकते हैं।

त्रिकोणासन
ये घुटनों, टखने, पैरों, सीने और हाथों को मजबूत बनाता है। ये शारीरिक और मानसिक स्थिरता को बढ़ाने में मदद करता है साथ ही ये कमर और साइटिका के दर्द
और स्ट्रेस को कम करता है इसके अलावा यह एंग्जाइटी और टाइप 1 एंड टाइप 2 डायबिटीज को रोकने में भी मददगार होता है।

आसन करने का तरीका
इस आसन को करने के लिए सीधे जमीन पर खड़े हो जाएं। अब अपने पैरों को एक-दूसरे से तीन फीट की दूरी पर रखें। ध्यान रखें कि आपका दायां पैर आपके सामने 90 डिग्री पर हो और बायां पैर पीछे 15 डिग्री के कोण पर हो। इस दौरान शरीर का भार दोनों पैरों पर बराबर रखें। गहरी सांस लेते रहें। अब अपने दाएं हाथ को दाएं पैर के अंगूठे पर रखें और बाएं हाथ को आसमान की ओर सीधा उठाएं। ध्यान रखें कि बायां हाथ सिर के बिल्कुल ऊपर होना चाहिए। सिर को भी आसमान की ओर उठाएं और आंखों को खोलकर ऊपर की ओर देखें। इस दौरान आपके दोनों हाथ एक सीधी रेखा में होने चाहिए। जितनी देर हो सके, इसी अवस्था में रहें और गहरी सांस लेते और छोड़ते रहें। इसके बाद इस आसन को दूसरे पैर से भी दोहराएं।

गरुड़ासन
गरुड़ासन एक ऐसा तरीका है, जिसके जरिए आप अपने बढ़ते वजन को तो कम कर पाएंगे ही साथ ही आपका शरीर लचीला बनता है साथ ही यह गुर्दे के रोग और हाथ पैर दर्द के लिए लाभप्रद साबित होता है।

आसन करने का तरीका-
इस आसन को करने के लिए सबसे पहले सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं। इसके बाद बाएं पैर को ऊपर की तरफ उठाते हुए दाएं पैर को बाएं पैर में लपेटकर इस प्रकार से जमीन पर रखें कि बाएं घुटने पर दाएं पैर के घुटने के नीचे का भाग टिक जाएं। अब अपने दोनों हाथों को सिर के ऊपर की तरफ उठाते हुए दोनों हाथों की कोहनियों को क्रॉस करके लपेट लीजिए और दोनों हथेलियों को मिलाकर चेहरे के सामने नमस्कार की मुद्रा बना लें। इस समय सांस को सामान्य रखते हुए कुछ देर के लिए इसी अवस्था में बने रहें। कुछ देर इस अवस्था में रहने के बाद सांसों को धीरे-धीरे छोड़ते हुए हाथों को ऊपर ले जाएं फिर पेरों के बंधन को खोलकर सामान्य मुद्रा में ले आएं और ताड़ासन करते हुए फिर से सावधान की मुद्रा में आ जाएं। इस को एक बार बाईं और से करने के बाद दाएं से भी करें।

नौकासन
यह आसन शरीर के फैट को तो कम करता ही है साथ ही यह पाचन तंत्र को भी हेल्दी रखता है। यह आसन कई बीमारियों को दूर करने में मददगार साबित होता है। जैसे किडनी, कमर दर्द, और हर्निया जैसे प्रॉब्लम्स को भी कम करने में यह फायदेमंद होता है।

आसन करने का तरीका
नौकासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर आसन बिछाकर सीधे लेट जाएं और पैरों को सीधा रखे। अब सांस लेते हुए अपने सिर को उठाएं और साथ ही अपने दोनों हाथों को सामने की और सीधा रखें। अब आहिस्ता-आहिस्ता अपनी कमर को और दोनों पैरों को एक साथ ऊपर उठाएं इस अवस्था में आप अपने पेट और पैर की मासपेशियों में थोड़ा खिचाव महसूस करेंगे। इस स्थिति में कम से कम 30-40 सेकेंड्स तक बने रहे। उसके बाद सांस छोड़ते हुए फिर से अपने शरीर को सीधा कर लें। शुरूआत में इसे पांच बार करें और फिर बाद में इसके आदि होने पर इसे कम से कम 10-12 रिपिटेशन में करें।

Posted By: Inextlive Desk
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.