गोड्डा में सरकार और पांकी में विपक्ष की प्रतिष्ठा दांव पर

Updated Date: Wed, 20 Apr 2016 02:10 AM (IST)

--गोड्डा से जीते थे बीजेपी के रघुनंदन मंडल, जबकि पांकी से कांग्रेस के विदेश सिंह ने दर्ज की थी जीत

--दोनों विधायकों के निधन से खाली हुई सीटों पर हो रहा है उपचुनाव

रांची: पांकी और गोड्डा उपचुनाव में राज्य में सत्तारुढ़ रघुवर सरकार और विपक्षी पार्टियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। क्योंकि जिन दो सीटों पर चुनाव हो रहा है उसमें से एक जहां बीजेपी के पास थी, वहीं एक कांग्रेस के पास। ऐसे में जहां इन दोनों सीटों पर बीजेपी और उसका गठबंधन जीतकर अपनी सरकार को मजबूत करना चाहता है, वहीं विपक्ष इस उपचुनाव में अपनी जीत से अपनी बढ़ी हुई ताकत को दिखाना चाहता है।

दोनों के लिए टेढ़ी खीर

लेकिन सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों के लिए यह टेड़ी खीर है। क्योंकि पांकी विधानसभा सीट पर जहां बीजेपी का न तो अपना जनाधार है और नही कोई बड़ा नेता। पिछली बार भी यह सीट बीजेपी की सहयोगी आजसू ने लड़ा था। लेकिन पार्टी वहां पर तीसरे स्थान पर रही। वहीं कांगे्रस से निर्वाचित हुए दिवंगत विधायक विदेश की सिंह कांगे्रस से ज्यादा अपने व्यक्तिगत जनाधार की वजह से इस सीट से जीते थे। ऐसे में इस बार कांगे्रस को इस सीट पर उम्मीदवार उतारने में मुश्किल होगी।

शशिभूषण मेहता भी रेस

वहीं इसकी रही सही कसर पिछली बार अपनी दूसरे स्थान पर रहे शशिभूषण मेहता ने पूरी कर दी। उपचुनाव की अधिसूचना के एक दिन पहले ही वह झारखंड मुक्ति मोर्चा में शामिल होकर इस सीट पर चुनाव लड़ने के लिए ताल ठोंक दिया है। इस सीट पर उनका जातीय आधार मजबूत है। वहीं गोड्डा सीट पर जहां बीजेपी अपने विधायक रघुनंदन मंडल के बेटे अमित को प्रत्याशी बनाने जा रही है। वहीं दूसरी तरफ इस सीट पर विपक्षी पार्टियों में एका नहीं है। राजद, कांग्रेस, जेवीएम और जेएमएम समेत सभी पार्टियों चुनाव लड़ने के मूड में हैं।

हार्ट अटैक से हुई थी दोनों विधायकों की मौत

चतुर्थ झारखंड विधानसभा में चुने गए सदस्यों का मुश्किल से 15 महीने हुए हैं, लेकिन इस विधानसभा में ऐसा पहली बार है जब झारखंड विधानसभा ने अपने चुने हुए दो विधायकों को खो दिया। इन दोनों के निधन में यह भी एक समानता है कि दोनों का निधन अचानक से हार्ट अटैक के कारण हुआ और वह भी देर रात। 4 जनवरी को गोड्डा विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के विधायक रघुनंदन मंडल का निधन कोरका क्षेत्र में हो गया था। उन्हें अचानक से सीने में दर्द की शिकायत हुई और अस्पताल ले जाते समय ही उन्होंने दम तोड़ दिया। वहीं पलामू के पांकी विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक विदेश सिंह का 28 मार्च, सोमवार की देर रात लगभग डेढ़ बजे सीने में दर्द और बेचैनी की शिकायत हुई और सदर अस्पताल में उनकी मौत हो गई। इन दोनों क विधायकों की असमायिक निधन से 82 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में अभी मात्र 80 विधायक बचे हैं। उसमे से भी एक मनोनीत हैं। यानी चुने हुए सिर्फ 79 विधायक ही हैं।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.