COVID-19 महामारी का सामना के लिए भारत तथा कनाडा उतारे सैन्य बल, आपूर्ति में देरी के लिए एस्ट्राजेनेका के खिलाफ यूरोप में कानूनी कार्रवाई शुरू

नोवल कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के तेजी से बढ़ते मामले को संभालने के लिए भारत तथा कनाडा को सैन्य बल उतारने पड़े हैं। वहीं यूरोपीय में वैक्सीन की आपूर्ति में देरी की वजह से एस्ट्राजेने के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू हो गई है।

Updated Date: Tue, 27 Apr 2021 02:42 PM (IST)

टोक्यो (राॅयटर्स)। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण से होने वाली मौत का आंकड़ा 2 लाख के करीब पहुंच गया है। भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, मंगलवार को पिछले 24 घंटों के दौरान 2,771 कोविड-19 मरीजों की मौत हो चुकी है। देश में नोवल कोरोना वायरस के तेजी से फैल रहे संक्रमण का सामना करने के लिए सैन्य बल तत्काल मेडिकल सहायता उपलब्ध कराने के लिए उतर गई हैं।एस्ट्राजेने के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरूयूरोपीय कमीशन ने एस्ट्राजेनेका के खिलाफ कानून कार्रवाई शुरू कर दिया है। कंपनी पर आरोप है कि उसने कांट्रैक्ट के मुताबिक, वैक्सीन की समय पर आपूर्ति नहीं की। कुछ अमेरिकी सांसदों तथा संपन्न टेक्नोलाॅजी एग्जीक्यूटिव्स ने कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी की गिरफ्त में जकड़े भारत की मदद के लिए हाथ मिलाया है। एक संसद सदस्य ने कहा कि उनका मकसद पूरे देश में मदद को एकसमान वितरण की है।
ओंटारियो में सेना तथा रेडक्राॅस भेजे गए


सोमवार को कनाडा के पब्लिक सेफ्टी मिनिस्टर ने कहा कि ओंटारियो में सैन्य बल तथा रेडक्राॅस को मदद के लिए भेजा जा रहा है। यह प्रात कोरोना वायरस के संक्रमण से देश में सबसे ज्यादा प्रभावित है। कोविड-19 के मरीजों की अस्पताल में भर्ती होने की दर लगातार बढ़ रही है। इससे वहां के हालात चिंताजनक हो गए हैं। यही वजह है कि वहां सेना तथा रेडक्राॅस की मदद लेनी पड़ रही है।

Posted By: Satyendra Kumar Singh
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.