सूचना के बाद भी निर्धारित समय पर नहीं पहुंच पाती पुलिस

2019-01-15T06:00:54Z

- क्राइम कंट्रोल के लिए 31 टू व्हीलर व 42 फोर व्हीलर गाडि़यां कर रहीं रन

- शहर में 15 मिनट तो ग्रामीण में 20 मिनट निर्धारित मौके पर पहुंचने का समय

- घटना की जानकारी मिलने के बाद भी समय से नहीं पहुंच पाती पुलिस

GORAKHPUR: पब्लिक की सुरक्षा और उनकी मदद के लिए शहर और रूरल एरिया में रन कर रही डॉयल 100 की रफ्तार सुस्त पड़ गई है। घटना की सूचना के बाद इन गाडि़यों के 15 मिनट में शहर और 20 मिनट में रूरल एरिया में पहुंचने का समय निर्धारित है। बावजूद इसके ज्यादातर केसेज में सूचना के बाद भी पुलिस को घटनास्थल पर पहुंचने में घंटों लग जा रहे हैं।

पुलिस की लेटलतीफी से पब्लिक परेशान

अपराध नियंत्रण और पब्लिक को बेहतर सुविधा मुहैया कराने के लिए डॉयल 100 को लगाया गया है। लेकिन सूचना के बाद भी डॉयल 100 की लेटलतीफी लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गई है। सूत्रों की मानें तो जिले में डॉयल 100 की 32 टू व्हीलर और 42 फोर व्हीलर गाडि़यां कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए चलाई जा रही हैं। इसके लिए हर थाने को दो-दो गाडि़यां मुहैया कराई गई हैं। इन गाडि़यों को निर्धारित समय पर पहुंच कर पीडि़तों की मदद करनी होती है। लेकिन पुलिस विभाग की सुस्ती के चलते इस व्यवस्था की रफ्तार धीमी हो गई है।

चोरी की घटनाओं का बढ़ा ग्राफ

इधर लगातार गोरखपुर में चोरियों की घटनाओं का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। जो डॉयल 100 की कार्यप्रणाली की पोल खोलने के लिए काफी है। सबसे बड़ी बात ये है कि सबसे ज्यादा चोरियां थाने के अगल-बगल ही हो रही हैं। ये चोरियां पुलिस रो चुनौती दे रही हैं लेकिन पुलिस बढ़ती चोरी की घटनाओं पर अंकुश लगाना तो दूर उनका खुलासा तक करने में फेल साबित हुई है। जिससे चोरों का मनोबल और ज्यादा बढ़ा है।

केस 1 - गोला एरिया के रहने वाले सत्येंद्र पांडेय की दुकान से हजारों रुपए कैश और लाखों रुपए का सामान चोर चुरा ले गए। घटना रात में हुई। घटना की तत्काल सूचना पुलिस को दी गई। लेकिन सूचना के एक घंटे बाद भी डॉयल 100 नहीं पहुंची। जबकि 15 से 20 मिनट में मौके पर पहुंचने का टाइम है।

केस 2 - शाहपुर एरिया के एचएन सिंह चौराहे के पास एक अज्ञात व्यक्ति की लाश मिली। लोगों ने इसकी सूचना डॉयल 100 पर दी। लेकिन वह समय से नहीं पहुंची। कुछ देर में शाहपुर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.