अब खुलेगी विकास की 'जमीनी' हकीकत

Updated Date: Tue, 14 Jul 2020 01:38 PM (IST)

-एसआइटी ने एडीएम से मांगी जमीनों पर कब्जे और कार्रवाई की रिपोर्ट, एडीएम ने एसडीएम व सभी विभागों को लिखा पत्र

-------

KANPUR: कुख्यात अपराधी विकास दुबे पर सबसे अधिक जमीन पर कब्जा करने के आरोप लगे हैं। इसमें प्राइवेट के साथ गवर्नमेंट की जमीन भी शामिल हैं। पर उसके खिलाफ भूमाफिया तक की कार्रवाई नहीं की गई है। अब सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या और मुठभेड़ में विकास दुबे, अमर दुबे आदि बदमाशों की मौत के मामले की जांच कर रही एसआइटी ने एडीएम वित्त एवं राजस्व से कई अहम जानकारियां मांगी हैं।

खुलेगा कच्चा चिट्ठा

एसआइटी के अध्यक्ष एवं एडीशनल चीफ सेक्रेटरी संजय भूसरेड्डी ने कहा है कि उन्हें यह बताया जाए कि विकास दुबे ने कहां- कहां और कितनी गवर्नमेंट और प्राइवेट भूमि पर कब्जा कर रखा है। भूमि पर अगर उसने कब्जे किए हैं तो उसके विरुद्ध की गई कार्रवाई का विवरण भी उन्हें दिया जाए। इससे उनका पत्र मिलते ही एडीएम वित्त एवं राजस्व वीरेंद्र पांडेय ने सभी एसडीएम, केडीए, नगर निगम, जिला पंचायत समेत विभिन्न विभागों के अधिकारियों को पत्र लिखकर जानकारी मांगी है। कुख्यात अपराधी विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद प्रदेश सरकार ने उसका कच्चा चिट्ठा खोलने और उसके सहयोगियों को बेनकाब करने के लिए स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम का गठन किया है।

हर बिंद पर हो रही जांच

अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में गठित की गई एसआइटी में एडीजी हरिराम शर्मा और डीआइजी जे। रविन्द्र गौड़ भी बतौर सदस्य शामिल किया गया है। एसआइटी घटना से जुड़े विभिन्न ¨बदुओं और प्रकरण की जांच कर रही है। विकास दुबे पर सबसे ज्यादा आरोप लोगों की भूमि पर कब्जाने के लगे हैं। इसमें प्राइवेट के साथ गवर्नमेंट की जमीन भी शामिल हैं। फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई और न ही उसका नाम भू माफिया की सूची में शामिल हुआ। अब एसआइटी ने डिटेल मांगी है तो जांच शुरू हुई है।

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.