GORAKHPUR: केमिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी करने के इच्छुक स्टूडेंट्स अब एमएमएमयूटी की ओर भी रुख कर सकते हैं. नए एकेडमिक सेशन से यूनिवर्सिटी में केमिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी की उपाधि भी मिलेगी. वीसी प्रो. श्रीनिवास सिंह ने बताया कि केमिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में व्यवहारिक शोध को बढ़ावा देने के उद्देश्य से यह कोर्स शुरू किया जा रहा है. दो सेशन पूर्व शुरू हुए इस नए विभाग में अभी तक बीटेक की पढ़ाई हो रही है. गुरुवार को यूनिवर्सिटी की विद्यापरिषद ने इस नए प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी. इसके साथ ही सेशन 2018-19 से यूनिवर्सिटी के एमबीए, एमसीए और एमएससी इलेक्ट्रॉनिक्स कोर्स में पांच-पांच सीटों का इजाफा कर दिया गया है. अब एमबीए और एमसीए में जहां 65-65 सीटों पर प्रवेश होंगे. वहीं एमएससी इलेक्ट्रॉनिक्स में 35 सीटों पर दाखिला होगा. वहीं, मालवीय प्रवेश परीक्षा -2018 की मेरिट के अनुसार दाखिला लेने वाले प्रथम 20 छात्र और 20 छात्राओं को एक-एक टैबलेट बतौर पुरस्कार दिए जाने बाबत विद्यापरिषद ने निर्णय लिया है. बता दें कि 28 मई को प्रवेश परीक्षा परिणाम घोषित होने के बाद अब सात जून से यूनिवर्सिटी में प्रवेश काउंसलिंग शुरू हो रही है.