वायनाड (केरल) (एएनआई)। वायनाड से सांसद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को वायनाड में नागरिकता संशोधन कानून 2019 (सीएए) को लेकर सरकार पर हमला बोला। इस दाैरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी विवादित बयान दिया। राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी और महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के बीच तुलना करते हुए कहा कि दोनों एक ही विचारधारा को मानते हैं। महात्मा गांधी को उनकी 72 वीं पुण्यतिथि पर याद करते हुए राहुल गांधी ने कहा, यह एक ऐसा दिन था जब भारत में पैदा हुए सबसे महान व्यक्तियों में से एक को हमसे छीन लिया गया था। उसे ऐसे व्यक्ति ने हमसे छीना था जो घृणा से भरा हुआ था। नाथूराम गोडसे ने गांधी को कई बार मारने की कोशिश की और आज के दिन वह इसमें सफल हो गया था।


गोडसे और मोदी एक ही विचारधारा में विश्वास करते
राहुल गांधी यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि गोडसे ने महात्मा गांधी को इसलिए गोली मारी, क्योंकि वह खुद पर विश्वास नहीं करता था। वो किसी से प्यार नहीं करता था। उसे किसी की परवाह नहीं थी। वो किसी पर विश्वास नहीं करता था। हमारे प्रधानमंत्री भी ठीक ऐसे ही हैं। पीएम नरेंद्र मोदी की गोडसे की तुलना करते हुए, कांग्रेस नेता ने कहा, नाथूराम गोडसे और नरेंद्र मोदी एक ही विचारधारा में विश्वास करते हैं। इनमें कोई फर्क नहीं है। वह भी केवल अपने आप को पसंद करते हैं और अपने आप पर विश्वास करते हैं। बस नरेंद्र मोदी में यह कहने की हिम्मत नहीं है कि वह गोडसे में विश्वास करते हैं। वायनाड में आज राष्ट्रीय ध्वज हाथों में लिए सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगभग दो किलोमीटर लंबे 'संविधान बचाओ' मार्च में भाग लिया। यह मार्च वायनाड में एसकेएमजे हाई स्कूल से शुरू हुआ था।


30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में भी मनाया जाता

बता दें कि महात्मा गांधी ऐसे व्यक्ति थे जिसने ब्रिटिश शासन से आजादी के लिए भारत का नेतृत्व किया। 30 जनवरी, 1948 को नाथूराम गोडसे द्वारा हत्या कर दी गई। नाथूराम गोडसे महात्मा गांधी के विभाजन के विचार के खिलाफ थे। महात्मा गांधी को प्यार से बापू नाम से भी बुलाया जाता है। गांधी जी ने अहिंसा के माध्यम से भारत के स्वतंत्रता संग्राम में प्रमुख भूमिका निभाई। भारत में 30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk