- पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद पिता को सौंपा

- मृतका की दादी ने उसकी मां पर पोती को जलाने का आरोप लगाया

HARIDWAR(JNN): संदिग्ध परिस्थितियों में सात साल की बच्ची की जलने के बाद उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. मृतका की दादी ने उसी की मां पर उसे जलाकर मार दिये जाने का आरोप लगाया. जिस पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसका पोस्टमार्टम कराकर बच्ची के पिता को सौंप दिया. जबकि बच्ची की मां का कहना है उसके उपर गर्म पानी गिरा था, जिस कारण वह जल गई थी.

देहरादून अस्पताल मे रेफर कर दिया

पुलिस के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र की बह्रमपुरी कालोनी निवासी छोटू की सात साल की च्च्ची मिनाक्षी दो दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में जल गई थी. जिसे पहले उचचार के लिए वह जिला अस्पताल में ले गये, जहां से डाक्टरो ने उसकी हालत को गंभीर देखते हुए उसे देहरादून अस्पताल मे रेफर कर दिया था. जहां बुधवार देर शाम को इलाज के दौरान मौत हो गई जिसके शव को लेकर छोटू घर आया तो च्च्ची की दादाी लीलावती ने शोर मचा दिया कि उसकी मां ने च्च्ची को जलाया था जिस कारण उसकी मौत हुई है.

गर्म पानी गिरने से च्च्ची झुलसी

इस पर किसी ने पुलिस को च्च्ची को जलाकर मार दिये जाने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर उसका पंचायत नामा भरने के बाद पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया. कोतवाल महेन्द्र सिंह नेगी ने बताया कि मृतका च्च्ची की मां प्रिया का कहना है गर्म पानी गिरने से च्च्ची झुलसी थी. जबकि दादी लीलावती का आरोप है उसे उसकी मां ने जलाकर मारा है. कोतवाल ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसकी मौत के कारणों का पता चला पायेगा उसके शरीर पर जो निशान है वह जले के है या गर्म पानी के है या फिर उसे जलाया गया है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाही की जायेगी.