- दो केयर टेकर होते हुए खाली पड़ी पुरानी जिला जेल में चोरों ने दीवार तोड़कर कीमती सामान उड़ाया

- 26 दिसंबर 2016 में जिला जेल को सैदपुर कुर्मियान शिफ्ट किया गया था

bareilly@inext.co.in

BAREILLY : जिस जिला जेल में 1941 को क्रांतिकारी खान बहादुर खान को अंग्रेजों ने फांसी पर चढ़ा दिया था, उसमें चोरों ने सेंध लगा दी है. चोरों ने कलेक्ट्रेट के पास स्थित खाली पड़ी इस पुरानी जिला जेल के मेन गेट के बाई ओर बने आवास की तरफ से दीवार तोड़कर रास्ता बना दिया है. यहीं से घुसकर उन्होंने कई कीमती सामान चोरी कर लिया है. हालांकि इस जेल की सुरक्षा के लिए जिला जेल प्रशासन ने दो केयरटेकर रखने का दावा किया है. लेकिन, वे न तो दिन में दिखे और न ही राते में. इसी का नतीजा है कि चोर अपने काम को आसानी से अंजाम देकर जेल का बहुत सारा कीमती सामान पार कर चुके हैं.

बंदी शिफ्ट किए, कीमती सामान छोड़ा

26 दिसंबर 2016 में जिला जेल को सैदपुर कुर्मियान शिफ्ट करते समय जेल प्रशासन ने कई सारा कीमती सामान यहीं छोड़ दिया था. तब यहां ताला लगा दिया गया था. लेकिन, यहां किसी अफसर के न आने जाने से चोरों को यहां सेंधमारी का अच्छा मौका मिल गया. जेल के मेन गेट के बाई तरफ बने आवास की तरफ से एक ग्रिल के नीचे की ईटों को निकाल कर रास्ता बना दिया. इसी से जेल में घुसकर कीमती सामान चोरी करना शुरू कर दिया.

ये सामान हुआ चोरी

अब तक चोर जिला जेल में रखी हथकड़ी, फायर एक्सटिंग्यूशर, बिजली केबिल, मोटी-मोटी जंजीरें, गैस पाइप लाइन का लोहा और बिजली के उपकरण आदि चोरी कर ले गए हैं. और अब बचे हुए सामान को भी चोरी करने में जुटे हैं.

सामान ले जाते हैं, औजार छोड़ जाते हैं

ये चोर कितने बेखौफ इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ये चोरी का सामान तो अपने साथ ले जाते हैं, लेकिन जिन औजारों से सामान काटते हैं वो जेल में ही छोड़ जाते हैं. ताकि अगले दिन उन्हें सामान ढोकर लाना न पड़े. टीम को अलग-अलग स्थानों पर कुदाल, रॉड, आरी और अन्य सामान भी बरामद हुआ.

1941 में जेल में क्रांतिकारी की कब्र भी

1941 में बनी इस जेल में तब 213 बंदियों को रखा गया था. अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले रुहेला सरदार खान बहादुर खान को जेल ही में फांसी देने के बाद उनके शव को जेल में ही दफना दिया गया था. आज भी उनकी कब्र जेल में मौजूद हैं.

कभी लोहिया पार्क तो कभी बिजली घर

जिला जेल के शिफ्ट होने के बाद यहां खाली जमीन पर कभी लोहिया पार्क तो कभी बिजली घर तो कभी रोडवेज बस अड्डा बनाने की चर्चा हुई थी. लेकिन यह अब तक कोई प्रस्ताव तैयार नहीं हुआ है.

जिला जेल में 15 दिन पहले मैंने खुद निरीक्षण किया था तो वहां पर सब कुछ ठीक था. जिला जेल की सुरक्षा के लिए दो केयर टेकर नियुक्त किए गए हैं. अब अगर चोरों सेंधमारी कर चोरी की है तो केयर टेकर से जवाब तलब किया जाएगा. साथ ही चोरों के खिलाफ एफआईआर कराई जाएगी.

यूपी मिश्रा, जिला जेल अधीक्षक