- विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर शहर में हरियाली बरकरार रखने को उठाए जा रहे कदम

- अनलॉक 1 के चौथे दिन तक हवा की गुणवत्ता ठीक, हालांकि तालकटोरा की हवा हुई खराब

LUCKNOW शहर लगभग पूरी तरह से अनलॉक हो चुका है। रोड पर वाहनों का लोड भी लगातार बढ़ने लगा है। शहर के एक एरिया तालकटोरा को छोड़ दें तो अभी तक राजधानी की हवा की गुणवत्ता बेहतर बनी हुई है। इसी तरह अभी हर तरफ हरियाली भी नजर आ रही है। इस तस्वीर को बरकरार रखने के लिए जिला प्रशासन और नगर निगम की ओर से कवायद शुरू कर दी गई है। विश्व पर्यावरण दिवस (शुक्रवार) के मौके पर प्रशासन की पहल पर कान्हा उपवन में पहला सिटी फॉरेस्ट डेवलप किया जाएगा। खास बात यह है कि जापान की मियावाकी तकनीकी के आधार पर सिटी फॉरेस्ट को डेवलप किया जाएगा।

अब हमारी जिम्मेदारी

शहर की हरियाली को बरकरार रखने और हवा की गुणवत्ता को बेहतर बनाए रखने में अब हम सभी को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। प्रयास करना होगा कि अधिक से अधिक पौधरोपण करें साथ ही ध्यान रखें कि बेवजह रोड पर वाहनों का लोड न बढ़े।

तालकटोरा की हवा हुई खराब

पूरी राजधानी की हवा की गुणवत्ता तो बेहतर है लेकिन तालकटोरा एरिया की हवा अनलॉक 1 के चौथे दिन ही खराब हो चुकी है। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के आंकड़ों की माने तो गुरुवार को तालकटोरा एरिया का एक्यूआई लेवल 239 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया है, जो पिछले ढाई माह में सर्वाधिक है। 1 जून को जहां एक्यूआई 105 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर था, वहीं 2 जून को 145 और 3 जून को एक्यूआई 180 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया।

फिलहाल स्थिति ठीक

गोमती नगर एरिया की बात की करें तो स्थिति ठीक है। 2 जून को जहां एक्यूआई लेवल 58 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर था, वहीं 3 जून को एक्यूआई लेवल 80 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रहा और 4 जून को एक्यूआई लेवल 84 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया।

लालबाग का एक्यूआई बढ़ा

लालबाग एरिया के एक्यूआई स्तर में भी गुरुवार को भी इजाफा देखा गया। गुरुवार को यहां का एक्यूआई 173 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रहा। जो अभी तक सर्वाधिक है। 1 जून को लालबाग का एक्यूआई सिर्फ 92 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर था।

बाक्स

इस तरह समझें

एक्यूआई की स्थिति माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर में

4 जून

एरिया एक्यूआई

गोमतीनगर 84

लालबाग 173

तालकटोरा 239

3 जून

गोमतीनगर 80

लालबाग 132

तालकटोरा 180

2 जून

गोमतीनगर 58

लालबाग 122

तालकटोरा 145

1 जून

गोमतीनगर 66

लालबाग 92

तालकटोरा 105

ओवरऑल स्थिति ठीक

अब अगर ओवरऑल राजधानी की बात की जाए तो गुरुवार को एक्यूआई 146 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रहा। जो पिछले तीन दिन में सर्वाधिक है। इसके बावजूद अभी हवा की गुणवत्ता बेहतर है।

बाक्स

राजधानी की ओवरऑल स्थिति

तारीख एक्यूआई

4 जून 146

3 जून 119

2 जून 96

1 जून 84

जापानी तकनीकी है मियावाकी

जापान की इस तकनीकी का यूज करके बेहद कम स्थान (200 वर्गमीटर) पर पौधों के झुंड (सिटी फॉरेस्ट) को लगाया जा सकता है। इस तकनीकी में ऊंचे, मध्यम और छोटे पौधे एक साथ लगाए जाते हैं। खास बात यह है कि इस तकनीकी से लगाए जाने वाले पौधे अंडरग्राउंड वॉटर लेवल को मेनटेन करते हैं साथ ही हवा की गुणवत्ता को बेहतर बनाते हुए डस्ट भी खत्म करते हैं।

यहां यूज किया जा सकता है

इस तकनीकी का यूज करके स्कूल, कॉलेज, अस्पताल के साथ-साथ घरों में भी सिटी फॉरेस्ट को डेवलप किया जा सकता है।

पौधे लगाएं, सम्मान पाएं

- नागरिकों को जोड़ने के लिये माई ट्री एप

जिला प्रशासन की ओर से नागरिकों को इस पौधरोपण अभियान से जोड़ने के लिये माई ट्री एप लॉन्च किया गया है। इसके तहत जो नागरिक पौधरोपण करेंगे उसकी जियो टैगिंग करेंगे। यह पौधे लगाने के बाद सुरक्षित रहें और प्रगति करें, इसका भी इंतजाम किया गया है। हर पेड़ लगाने वाले को छह माह में उस पौधे की फोटो खींचकर उसकी प्रगति का प्रमाण एप पर अपलोड करना होगा। डीएम ने बताया कि पेड़ की सफलतापूर्वक सेवा करने वाले को पुरस्कृत करने की योजना है। उन्होंने बताया कि अगर कोई छह माह में 100 पेड़ लगाता है तो उसे एक प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। इसके साथ ही अच्छा काम करने वाले नागरिकों को इन्वायरमेंट एम्बेस्डर बनाकर पुरस्कृत किया जाएगा।

बॉक्स

किस विभाग को कितना लक्ष्य

डिपार्टमेंट पौधरोपण लक्ष्य

प्रभागीय वनाधिकारी 10,75,160

पर्यावरण विभा 1,14,000

ग्राम्य विकास विभाग 9,32,812

पंचायतीराज विभाग 1,04,727

आवास विकास 13000

कोट

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर जापान की मियावाकी प्लांटेशन तकनीकी से सिटी फारेस्ट डेवलप करने की योजना शुरू की जा रही है। मेरी सबसे अपील है कि सभी लोग पौधरोपण करें, जिससे एक्यूआई लेवल बेहतर रहे।

मुकेश मेश्राम, कमिश्नर, लखनऊ

हम सभी को हरियाली बरकरार रखने के लिए अपने स्तर से भी प्रयास करने होंगे। अगर हरियाली रहेगी तो निश्चित रूप से पॉल्यूशन का लेवल भी कंट्रोल में रहेगा।

डॉ। आलोक कुमार राय, वीसी, एलयू

नगर निगम की ओर से करीब एक लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। प्रमुख मार्गो, पार्को और फुटपाथ पर प्लांटेशन कराया जाएगा। जनता से अपील है कि पौधरोपण में निगम का सहयोग करें।

डॉ। इंद्रमणि त्रिपाठी, नगर आयुक्त

शहर में हरियाली बनी रहे, इसके लिए हम सभी को अभी से ही प्रयास करने होंगे। प्रयास करना होगा कि अपने आसपास के पार्को या गली में ही पौधरोपण करें।

दिनेश सिंह, डीसीपी सेंट्रल

हवा की गुणवत्ता बेहतर है। अब हमारी जिम्मेदारी है कि आने वाले वक्त में भी यही तस्वीर बनी रहे। इसके लिए जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण किया जाए।

डॉ। आरपी सिंह, डायरेक्टर, उप्र खेल निदेशालय

Posted By: Inextlive