नई दिल्ली (पीटीआई)। टीम इंडिया को जनवरी 2020 में जिंबाब्वे के खिलाफ तीन मैचों की टी-20 सीरीज खेलनी है। जिंबाब्वे टीम ये सभी मैच खेलने भारत आने वाली थी मगर गुरुवार को जिंबाब्वे क्रिकेट बोर्ड के सस्पेंशन के बाद सीरीज अधर में लटक गई। हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया है। बोर्ड अक्टूबर तक इंतजार करेगा क्योंकि आईसीसी की एक मीटिंग होनी बाकी है जिस पर जिंबाब्वे क्रिकेट बोर्ड का भविष्य टिका है।

जनवरी में खेली जानी है टी-20 सीरीज
बता दें भारत बनाम जिंबाब्वे टी-20 सीरीज की शुरुआत 5 जनवरी को होनी है। पहला मैच गुवाहाटी में दूसरी 7 जनवरी को इंदौर में और तीसरा मैच 10 जनवरी को पुणे में खेला जाना है। मगर आईसीसी ने जबसे जिंबाब्वे क्रिकेट बोर्ड को बर्खास्त किया है। उनकी टीम किसी भी इंटरनेशनल मैच में हिस्सा नहीं ले सकती है। बीसीसीआई से जुड़े एक सीनियर अधिकारी ने पीटीआई से बातचीत में कहा, 'फिलहाल हम किसी बैकअप प्लाॅन पर विचार नहीं कर रहे हैं। हम 16 अक्टूबर को होने वाली आईसीसी की क्वाॅर्टरली मीटिंग तक इंतजार करेंगे। अभी तीन महीने बाकी हैं, इसमें जिंबाब्वे क्रिेकट बोर्ड अगर सही रास्ते पर आ जाता है तो यह सभी के लिए बेहतर होगा।' हालांकि बीसीसीआई सूत्र का मानना है कि जिंबाब्वे क्रिकेट इस दौरान आईसीसी से क्लीयरेंस नहीं ले पाता तो स्थिति कुछ और होगी।

सरकार के दखल के चलते हुए सस्पेंड
इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने गुरवार को जिंबाब्वे क्रिकेट को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। आईसीसी ने ये फैसला जिंबाब्वे क्रिकेट में बढ़ती अनियमितताओं के चलते लिया है। आईसीसी चाहता है किसी भी देश की क्रिकेट संस्था पर वहां की सरकार का दबाव नहीं होना चाहिए, मगर जिंबाब्वे क्रिकेट बोर्ड इस परंपरा को निभाने में असमर्थ रहा है। बता दें पिछले महीने जिंबाब्वे की सरकारी एजेंसी स्पोर्ट्स एंड रिक्रिएशन कमेटी ने जिंबाब्वे क्रिकेट बोर्ड के पदाधिकारियों को बर्खास्त कर दिया था। ये आईसीसी के नियमों आर्टिकल 2.4 सी एंड डी का उल्लंघन है।

1 अगस्त से क्रिकेट में नया नियम लागू, अब रिटायर्ड हर्ट होने पर नया बल्लेबाज आकर करेगा बल्लेबाजी

बेन स्टोक्स ने जिस टीम को हराया, वहीं के लोग करना चाहते हैं इस क्रिकेटर को सम्मानित

जिंबाब्वे टीम नहीं खेल पाएगी कोई मैच
आईसीसी ने एक बयान जारी करते हुए कहा, 'जिंबाब्वे क्रिेकट को तुरंत बर्खास्त किया जाता है। आईसीसी बोर्ड ने यह निर्णय लिया कि जिंबाब्वे क्रिेकट बोर्ड जोकि आईसीसी का सदस्य देश है, उसने आर्टिकल 2.4 का उल्लंघन किया है। जिंबाब्वे बोर्ड के सदस्य स्वतंत्र होकर काम नहीं कर पा रहे। वहां की सरकार ने भी अब ज्यादा दखल करना शुरु कर दिया है।' बता दें इस सस्पेंशन के बाद जिंबाब्वे क्रिकेट को आईसीसी की तरफ से काई फंडिंग नहीं मिलेगी। इसी के साथ जिंबाब्वे की क्रिेकट टीम किसी भी आईसीसी टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले पाएगी।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk