राजौरी (जम्मू और कश्मीर) (एएनआई)। जम्मू एवं कश्मीर में सोमवार को भारतीय सेना को एक बड़ी उपलब्धि हासिल हुई। यहां नौशहरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास चलाए जा रहे सर्च अभियान में घुसपैठ की कोशिश कर रहे तीन आतंकवादी मार दिए गए। मारे गए आतंकवादी भारी हथियारों से लैस थे। कहा जा रहा है कि ये आतंकवादी पाकिस्तान में प्रशिक्षित हुए थे। यहां पर बीते 28 मई 2020 से चल रहे एक जवाबी घुसपैठ अभियान में, भारतीय सेना के अलर्ट जवानों ने नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों की कोशिशों को नाकाम कर दिया कर दिया है। इससे पहले दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में एक बड़ा आतंकी हमला होते बच गया।

आईईडी से भरी गाड़ी को ही विस्फोट से उड़ा दिया

बता दें कि यहां बीते 28 मई को सुरक्षा बलों ने यहां इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) से लदी एक कार को बरामद किया। विस्फोटक से भरी कार को सुरक्षा बलों के काफिले या रक्षा प्रतिष्ठान को निशाना बनाने के लिए रणनीतिक स्थान पर रखा गया था। विस्फोटक को कार के अंदर नीले रंग के ड्रम में रखा गया था। बम निरोधक दस्ता गुरुवार सुबह मौके पर पहुंचा। लोगों को आसपास के क्षेत्र से दूर जाने के लिए कहा गया। इसके बाद बम निरोधक दस्ते ने विस्फोटक को डिफ्यूज करने के बजाए आईईडी से भरी गाड़ी को ही विस्फोट से उड़ा दिया।

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk