- प्रिंस चौक के पास दो बड़े होटल्स की गिराई बाउंड्रीवाल

- एक होटल बताया जा रहा भाजपा नेता का

- पिछले वर्ष बच गया था कार्रवाई से, इस बार एक्शन

- आढ़त बाजार, जीएमएस रोड, रायपुर में भी चला अभियान

----------

सैटरडे को कार्रवाई

60 अतिक्रमण ध्वस्त

527 का रिवेरिफिकेशन

2 नए अतिक्रमण चिन्हित

61 भवनों को सीलिंग नोटिस

देहरादून,

अतिक्रमण हटाओ टास्क फोर्स की ओर से फ्राइडे को दून में ताबड़तोड़ कार्रवाई की गई. टास्क फोर्स जब डोजर के साथ सड़क पर उतरी तो किसी की नहीं चली. अतिक्रमण अभियान की शुरुआत हुई प्रिंस चौक के पास हरिद्वार रोड पर एक भाजपा नेता के होटल की बाउंड्री वाल गिराने के साथ. होटल की बाउंड्रीवाल अतिक्रमण के दायरे में थी, पिछले वर्ष हुई कार्रवाई के दौरान यह बच गया था. इसके अलावा एक और होटल की बाउंड्रीवाल ध्वस्त की गई. वहीं, आढ़त बाजार, जीएमएस रोड व रायपुर में एरिया में कुल 60 अतिक्रमण ध्वस्त किए गए.

किसी के दबाव नहीं चलेगा

एसीएस ओम प्रकाश ने बताया कि अतिक्रमण के खिलाफ टास्क फोर्स तेजी से कार्रवाई कर रही है. टास्क फोर्स के अफसरों को साफ निर्देश दिए गए हैं कि वे किसी के दबाव में न आएं. अतिक्रमण किसी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. आम लोगों से भी एसीएस ने अपील की है कि वे अभियान में सहयोग करें.

खुद हटा लो अतिक्रमण, वरना वसूली

एसीएस ओम प्रकाश ने सरकारी जमीनों पर कब्जे करने वालों से दोबारा अपील की है कि वे अपना अतिक्रमण हटा लें, वरना टास्क फोर्स द्वारा अतिक्रमण ध्वस्त किया जाएगा और कब्जाधारक से ध्वस्तीकरण का खर्चा भी वसूल किया जाएगा.

हाई कोर्ट के निर्देश पर एक्शन

शहर के सड़क, चौक, चौराहों से अतिक्रमण हटाने का अभियान हाई कोर्ट की सख्ती के बाद पिछले वर्ष से शुरू हुआ था. पिछले वर्ष कई अतिक्रमण हटाए गए, लेकिन बीच में अभियान रोकना पड़ा था. ऐसे में कई चिन्हित अतिक्रमणों के खिलाफ ध्वस्तीकरण की कार्रवाई नहीं हो पाई थी. कुछ अरसे पहले ही हाई कोर्ट ने अतिक्रमण की कार्रवाई फिर शुरू करने के निर्देश दिए थे. पिछले डेढ़ सप्ताह से अतिक्रमण हटाओ टास्क फोर्स द्वारा अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

चिन्हित अतिक्रमणों का रिवेरिफिकेशन

टास्क फोर्स द्वारा पिछले वर्ष कार्रवाई से बच गए अतिक्रमण के खिलाफ इस बार सख्ती से कार्रवाई की जा रही है. पिछले वर्ष चिन्हित किए गए अतिक्रमण का पहले रिवेरिफिकेशन कराया जा रहा है. इसके बाद इनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. प्रिंस चौक के पास भाजपा नेता के जिस होटल की बाउंड्रीवाल गिराई गई है, उसका चिन्हीकरण पिछले वर्ष ही कर दिया गया था. लेकिन, वह कार्रवाई से बच गया था. इस बार बिना दबाव के टास्क फोर्स अतिक्रमण के खिलाफ सख्ती से जुटी हुई है.

फ्लाईओवर्स के नीचे कब हटेगा अतिक्रमण

टास्क फोर्स को दून के पांच आरओबी और फ्लाईओवर्स के नीचे से कब्जे खाली करने के भी शासन द्वारा निर्देश दिए गए थे. यहां से कब्जे हटाकर जगह को सरकारी यूज में लेने की प्लानिंग हैं. लेकिन, अभी तक फ्लाईओवर और आरओबी के नीचे टास्क फोर्स द्वारा अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नहीं की गई है. जिला प्रशासन ने इसके लिए भी कई डिपार्टमेंट्स से प्रपोजल मांगे थे. हालांकि, सरकारी डिपार्टमेंट ने इसमें रुचि नहीं ली. नाम मात्र के प्रपोजल ही जिला प्रशासन को मिले हैं. अब प्रपोजल के लिए दो दिन का वक्त और बढ़ाया गया है. प्रपोजल शॉर्टलिस्ट करने के बाद फ्लाईओवर और आरओबी के नीचे की जमीन डिपार्टमेंट्स के नाम अलॉट कर दी जाएगी.

इस उपयोग में लाई जाएगी फ्लाईओवर्स से कवर्ड लैंड

- ग्रीनरी डेवपल करने में

- फायर ब्रिगेड के उपयोग में

- पेड पार्किग के लिए