चाईबासा: विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव से संबंधित तैयारियों की समीक्षा बैठक जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त अरवा राजकमल की अध्यक्षता में की गई। इस समीक्षा बैठक में पांचों विधानसभा क्षेत्र के सामान्य प्रेक्षक सहित सभी निर्वाची पदाधिकारी, सभी सहायक निर्वाची पदाधिकारी एवं गठित कोषांग के नोडल पदाधिकारी शामिल रहे। इस मौके पर उपायुक्त ने कहा कि पश्चिमी सिंहभूम जिले में दूसरे चरण का 7 दिसंबर को मतदान की तिथि निर्धारित है। प्रथम चरण के मतदान की समाप्ति के उपरांत जिले में निर्वाचन प्रक्रिया संपन्न करवाने के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई है। सामान्य प्रेक्षक की उपस्थिति में निर्वाचन तैयारियों की समीक्षा यथा फोटोयुक्त मतदाता पर्ची वितरण, मतदान एवं कलस्टर केंद्रों में मूलभूत सुविधाएं, मतदान केंद्रों पर वेबका¨स्टग, जर्जर या ध्वस्त मतदान केंद्र भवन स्थल परिवर्तन,मतदान केंद्रों का स्थानांतरण, मतदान एवं कलस्टर केंद्रों में विद्युतीकरण, दिव्यांग मतदाता के लिए उपलब्ध सुविधाएं आदि के साथ अन्य बिंदुओं पर चर्चा की गई है। इसके साथ ही सभी निर्वाची पदाधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि उक्त सभी ¨बदुओं का स्थल निरीक्षण करते हुए जिला निर्वाचन कार्यालय को प्रतिवेदन प्रस्तुत करें।

पांच हजार मतदान कर्मी बैलेट पेपर से देंगे वोट

विधानसभा चुनाव में पश्चिम सिंहभूम जिला के लगभग पांच हजार से अधिक कर्मियों के लिए जिला प्रशासन ने बैलेट पेपर की सुविधा उपलब्ध कराई है। जिससे मतदान के कार्य में लगे पांच हजार से अधिक शिक्षकों को बैलेट पेपर में मतदान करने में आसानी होगी। क्योंकि मतदान के दिन मतदान कार्य में लगे कर्मी अपना वोट अधिकत्तर नहीं डाल पाते थे, लेकिन इस बार जिला प्रशासन ने समय से सभी मतदान कर्मियों को मतदान करने के लिए बैलेट पेपर की व्यवस्था कर बड़ी राहत दी है। अब कार्य में लगे कर्मी भी अपने विधानसभा के उचित प्रत्याशियों का चयन कर वोट कर सकते हैं। इसके लिए झारखंड राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ ने जिला प्रशासन का साधुवाद किया है। संघ के प्रधान सचिव उपेन्द्र प्रसाद और उपाध्यक्ष अशोक राम ने कहा कि प्रशासन ने विशेष कैम्प के माध्यम से चुनाव कर्मियों के लिए बैलेट पेपर जारी करने का तत्परता दिखाकर हमें मतदान करने का अवसर प्रदान किया है।

25 जर्जर मतदान केन्द्र बदले

पश्चिम सिंहभूम जिला के विधानसभा चुनाव में 25 मतदान केन्द्र को बदल दिया गया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त अरवा राजकमल ने कहा कि विधानसभा चुनाव के निमित्त पूर्व से संचालित मतदान केन्द्र भवन को जर्जर या ध्वस्त हो गये हैं जिसमें दुर्घटना की आशंका है। इसलिए मतदाताओं एवं मतदान कर्मियों की सुरक्षा के ²ष्टि से वैसे मतदान केन्द्र भवन का स्थल परिवर्तन किया गया है। इस लिए बदले हुए मतदान केन्द्र में 7 दिसंबर को पहुंच कर सभी मतदान करें। बदले हुए नये मतदान केन्द्र में मतदाताओं के लिए सभी प्रकार की सुविधा को ध्यान में रखा गया है। मतदान केन्द्र भवनों के स्थल परिवर्तन की स्वीकृति भारत निर्वाचन आयोग से मिल चुका है, जिसके बाद ही यह बदला जा रहा है।

Posted By: Inextlive