फेसबुक की दोस्ती पड़ी भारी इमोशनली ब्लैकमेल कर ठग लिए 562 लाख रुपये

2019-01-29T12:12:27Z

सोशल साइट पर सक्रिय शातिर बना रहे निशाना। थाना रकाबगंज का मामला मदद के नाम पर मांगे रुपये।

agra@inext.co.in
AGRA : शातिरों ने अब ऑनलाइन इमोशनल अत्याचार करना शुरु कर दिया है। शातिर सोशल नेटवर्किंग साइट पर एक्टिव हैं, जो पहले दोस्ती करते हैं फिर इमोशनली ब्लैकमेल कर आपकी जेब पर हाथ साफ कर देते हैं। ऐसा ही एक मामला थाना रकाबगंज में देखने को मिला। अनजान से दोस्ती युवती को भारी पड़ गई। दो महीने में 5.62 लाख रुपये गंवाने के बाद उसे ठगी का अहसास हुआ।

असेप्ट की अनजान रिक्वेस्ट

थाना रकाबगंज क्षेत्र निवासी एक युवती नाई की मंडी एरिया में जॉब करती है। उसके फेसबुक पर नवंबर 2018 में जेसी टॉम्स नाम से एक फ्रेंड रिक्वेस्ट आई। युवती ने रिक्वेस्ट असेप्ट कर ली। दो दिन बाद मैसेंजर पर इसके बाद वाट्सएप पर बात होने लगी। अंजान फेसबुक फ्रेंड ने खुद को यूके का रहने वाला और ब्रिटिश एयरलाइंस में पायलट बताया।

विश्वास दिलाने को भेजे फोटो
अनजान दोस्त ने कुछ फोटो वाट्सएप और मैसेंजर पर भेज दिए। इस तरह बात चलती रही। कुछ दिन बाद अंजान दोस्त ने कहा कि उसकी आंख में दर्द हो रहा है। एक लाख रुपये की मदद चाहिए। युवती ने उसके एसबीआइ खाते में एक लाख रुपये जमा करा दिए। दिसंबर 2018 में फिर उसने नई प्रोबलम बताई। उसने कहा कि मैं परेशानी में हूं। आंख का ऑपरेशन तो हो गया, अब दवा के लिए 70 हजार रुपये की और जरूरत है। युवती ने फिर उसके दूसरे खाते में 70 हजार रुपये जमा करा दिए।
खुद को दिल्ली में बताया
दिसंबर में अनजान दोस्त ने फिर इलाज की मजबूरी बताकर 1.47 लाख रुपये युवती से अपने खाते में जमा करा लिए। दिसंबर के अंतिम सप्ताह में युवती के पास एक अंजान नंबर से कॉल आई। कॉल करने वाली युवती बताया कि वह दिल्ली एयरपोर्ट से बोल रही है। आपके दोस्त एयरपोर्ट पर सामान के साथ पकड़े गए हैं। इसका टैक्स 2.45 लाख रुपये जमा कराना होगा।
तुरंत बंद कर दीं दोनों आईडी
युवती ने अंजान दोस्त से बात की तो उसने कहा कि वह उसके पास आ रहा है और आते ही पूरा हिसाब कर देगा। उसके आश्वासन पर युवती ने फिर 2.45 लाख रुपये जमा करा दिए। इसके बाद फेसबुक आइडी और वाट्सएप नंबर बंद हो गया। तब जाकर युवती को अपने साथ ठगी का अहसास हुआ। उसने एसएसपी अमित पाठक से शिकायत की। इसके बाद साइबर सेल मामले की जांच में लगी है।
नाइजीरियाई हैकर्स हैं एक्टिव
इस मामले में आशंका जताई जा रही है कि नाइजीरिया में बैठे हैकर्स के गिरोह इसी तरह लोगों को इमोशनली ब्लैकमेल कर ठगी करते हैं। इस घटना के पीछे भी इनका हाथ हो सकता है। पूर्व में इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं।

नौकरियां : छत्तीसगढ़ में असिस्टेंट प्रोफेसर की बंपर वैकेंसी, 30 साल तक वाले करें आवेदन


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.