विंबलडनसट्टे से होगा ऑक्सफैम का फायदा?

2012-07-04T13:58:00Z

विंबलडन प्रतियोगिता में रोजर फेडरर पर एक दानकर्ता का सट्टा अगर सही साबित होता है तो गैरसरकारी संस्था ऑक्सफैम को एक लाख पाउंड का ईनाम मिल सकता है

ऑक्सफोर्डशर में रहने वाले निक न्यूलाइफ ने साल 2003 में रोजर फेडरर पर 1520 पाउंड का सट्टा लगाया कि वो साल 2019 तक सात विंबलडन खिताब जीत लेंगे. साल 2009 में 59 वर्ष की आयु में न्यूलाइफ की मौत हो गई थी, लेकिन उन्होंने सट्टे की रसीद दान के तौर पर ऑक्सफैम को दे दी, जिसकी कीमत अब लगभग 101,840 पाउंड हो चुकी है. ऑक्सफैम के प्रवक्ता ने कहा कि वो फेडरर के जीत की कामना करते है.

न्यूलाइफ ने सट्टेबाज विलियम हिल को साल 2003 में पत्र लिखकर सट्टे का आवेदन किया था. सट्टेबाज ग्राहम शार्प ने कहा कि न्यूलाइफ का सट्टा अनोखा और अदभुत है.

'अदभुत' सट्टा

शार्प ने कहा कि ये जिस तरह का सट्टा है उस तरह का सट्टा आने वाले समय में दिख पाना संभव नहीं है. शार्प ने कहा, “इस सट्टे के बारे में कई लोगों ने फेडरर को भी अवगत कराया है. मुझे नहीं पता कि वो इस लोकसेवा के कार्य के लिए किस तरह से सोच रहे है.”

ऑक्सफैम के अधिकारी एंड्रयू बारटन ने कहा, “लोगों की मौत के बाद उनके वसीयत से हमें दान के रूप में एक बड़ा हिस्सा मिलता है, इसलिए वो हमारे लिए जरूरी है.” बारटन ने कहा, “हम रोजर फेडरर को विंबलडन के लिए दुवाएं और शुभकामनाए देते है.”

फेडरर और जेवियर मलाइस के बीच सोमवार को हुए मुकाबले के दौरान फेडरर को पीठ दर्द से दो-चार होना पड़ा. नोवाक जोकोविच के बाद फेडरर ही इस विंबलडन खिताब के सबसे प्रबल दावेदार दिख रहे है.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.