एग्जाम की टेंशन को मिला एक्सटेंशन

Updated Date: Thu, 15 Apr 2021 10:20 AM (IST)

बरेली: कोरोना का साया अब एग्जाम पर भी पड़ना शुरू हो गया है। कोरोना के केसेस बढ़ने की वजह से अब सीबीएसई बोर्ड के हाईस्कूल के एग्जाम कैंसिल कर दिए गए हैं। वहीं इंटरमीडिएट के एग्जाम पोस्टपोन किए गए हैं। केन्द्र सरकार ने यह फैसला भले ही स्टूडेंट्स की सेफ्टी के लिए लिया हो, पर इससे स्टूडेंट्स के साथ ही उनके पेरेंट्स और स्कूल प्रशासन भी टेंशन में हैं। यह टेंशन स्टूडेंट्स के फ््यूचर को लेकर है। परेंट्स की टेंशन हाईस्कूल में प्रमोट करने से उनके परसेंटेज को लेकर भी है क्योंकि उन्हें लग रहा है कि प्रमोट करने से उनके बच्चे की परसेंटेज कॉमन हुई तो, इसका असर उनके बच्चे को फ्यूचर में उठाना पडे़गा। इस प्रमोट प्रणाली से सबसे अधिक टेंशन में मेधावी स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स हैं।

नेक्स्ट डेट को लेकर चिंता

इसी तरह इंटरमीडिएट के एग्जाम पोस्टपोन होने से भी स्टूडेंट्स और उनके परेंट्स टेंशन में हैं। परेंट्स सरकार के इस फैसले को बच्चों की सेफ्टी के लिए तो कुछ हद तक उचित मान रहे हैं, पर इससे उनकी प्रिप्रेरेशन और कंसंट्रेशन प्रभावित होने की बात भी मान रहे हैं। वहीं एग्जाम कैंसिल और पोस्टपोन होने से स्कूल प्रिंसिपल्स की भी मिली जुली प्रतिक्रिया है। उनका कहना है कि एग्जाम सेंटर्स पर कोविड प्रोटोकॉल को हंड्रेड परसेंट फॉलो किया जा सकता है। सरकार ने स्टूडेंट्स की सेफ्टी के लिए यह डिसीजन लिया है, पर इसके कुछ कांप्लीकेशंस भी सामने आएंगे।

इतनी मेहनत से तैयारी में लगी थी लेकिन अब एग्जाम लेट होंगे और डेट भी निर्धारित कब होगी पता नहीं। इससे तो प्रॉब्लम बढ़ेगी लेकिन अब संक्रमण के तेजी से बढ़ने के चलते अगर सरकार ने निर्णय लिया तो कुछ सोच कर ही लिया होगा।

परिधि अग्रवाल, 12वीं

12वीं के एग्जाम पोस्टपोन कर दिए हैं, लेकिन अभी कोविड संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में हम सभी की जिम्मेदारी के साथ सरकार की भी जिम्मेदारी बनती है कि सभी सुरक्षित रहें। तब तक हम अपनी स्टडी जारी रखेंगे और एग्जाम के लिए तैयारी करेंगे ताकि अच्छे मा‌र्क्स ला सकूं।

तान्या 12वीं

मैंने तो काफी पहले से ही तैयारी की थी कि एग्जाम आने वाले हैं, लेकिन न्यूज में देखा तो पता चला कि एग्जाम कैंसिल कर दिए गए हैं। अब मैंने तो तैयारी इसीलिए की थी कि एग्जाम में अच्छा प्रदर्शन कर सकूं। लेकिन अब एग्जाम ही रद हो गए है लेकिन फिर भी मैं अपनी स्टडी जारी रखूंगी।

फातिमा रिजवी, 10वीं

---

एग्जाम के लिए कितनी मेहनत से तैयारी की थी लेकिन इस कोरोना संक्रमण के चलते बेकार हो गई। अब ऐसे में एग्जाम की तैयारी का तो कोई मतलब नहीं बचा, लेकिन कोई नहीं एग्जाम की तैयारी काम आएगी। बस स्टडी जारी रखूंगा।

साहेन अरोरा 10वीं

प्रिंसिपल वर्जन

दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद होने के बाद छात्रों को इंटरनल एसेसमेंट के आधार पर प्रोन्नत किया जाएगा। लेकिन, इसके लिए अभी कोई स्पष्ट गाइडलाइन जारी नहीं हुई है। कक्षा 12वीं की परीक्षाएं रद नहीं हुई हैं, इसलिए छात्रों को आत्मविश्वास कम नहीं होने देना है। 12वीं के छात्र तैयारी जारी रखें, उनके एग्जाम की नई डेट आएगी।

- डॉ। उíमला बाजपेयी, प्रिंसिपल, सेक्रेड हार्ट स्कूल

---

कक्षा 12वीं की परीक्षाएं रद्द नहीं होनी चाहिए थी। एहतियात बरतते हुए परीक्षाएं हो सकती थीं। इससे कालेज व विश्वविद्यालयों में दाखिला लेने के समय छात्रों के साथ में समस्याएं आ सकती हैं। कक्षा 10वीं के छात्रों को किस तरह प्रोन्नत किया जाना है, इसका निर्णय बोर्ड का जियो जारी होने के बाद लिया जाएगा।

अमित रोनाल्ड, प्रधानाचार्य, एसआर इंटरनेशनल स्कूल

कक्षा 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के लिए गया निर्णय छात्रों के हितों में है। इस निर्णय के बाद 12वीं के छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए समय मिलेगा। वहीं दसवीं के छात्रों को किस तरह प्रोन्नत किया जाना है, इस पर विचार बोर्ड की ओर से प्रयास किया जाएगा।

योहान कुवंर, प्रधानाचार्य, विद्या भवन स्कूल

देश से बाहर कॉलेजों में दाखिले के लिए विद्यार्थी काफी समय से तैयारी करते हैं। इसके लिए उन्हें परीक्षाओं का इंतजार रहता है। बाहरी देश के लिए देर से दाखिला लेने की स्थिति में छात्रों का इंतजार करेंगे नहीं। ऐसे में छात्रों को अनिश्चतिता के समय से गुजरना पड़ना है। लेकिन, उन्हें अपना मनोबल कम नहीं होने देना है।

वीके मिश्रा, सीबीएसई जिला समन्वयक

------

कोविड-19 संक्रमण की तेजी के चलते सीबीएसई दसवीं की परीक्षा रद करने के सरकारी फैसले का हम स्वागत करते हैं। इससे हजारों बच्चों का जीवन और स्वास्थ्य सुरक्षित होगा। ऐसी सूरत में सरकार का फैसला दूरगामी नतीजों वाला कहलायेगा। सरकार को चाहिए कि वह बारहवीं क्लास के बच्चों का प्रमोशन भी उनके दसवीं के प्राप्तांक के आधार पर करे। निजी स्कूलों के कई तरह के उत्पीड़न, ऑनलाइन पढ़ाई और ऑफलाइन परीक्षा के ऊहापोह के बीच तमाम विद्यार्थी मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं।

-मुहम्मद खालिद जीलानी एडवोकेट कन्वीनर, पैरेंट्स फोरम, बरेली

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.