सुधर जाओ, अब दस हजार हो गया है

Updated Date: Thu, 18 Jun 2020 08:36 AM (IST)

- सिटी में ईयर फोन लगाकर चलने वालों पर लगाम की तैयारी

- सरकार ने बढ़ा दिया है जुर्माना, लेकिन पब्लिक पर नहीं दिख रहा असर

- बिना हेलमेट के चलने वालों का भी चालान बढ़ा

REALITY CHECK

GORAKHPUR: आप भले ना अपने सेहत की चिंता करें लेकिन सरकार आपके लिए सोच रही है। ट्रैफिक रूल्स को इग्नोर कर सड़क पर फर्राटा भरने वालों को सबक सिखाने के लिए सरकार ने एक बार फिर जुर्माना बढ़ाया है। प्रशासन द्वारा बार-बार हेलमेट पहनाने की कोशिश के बावजूद सड़कों पर बेफिक्र घूमते फर्राटा भरते लोगों का खूब चालान काटा। लेकिन इसके बाद भी रूल्स तोड़ने वालों की संख्या में कमी नहीं आई। इसलिए शासन ने बिना हेलमेट, गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करने समेत कई मद में जुर्माना बढ़ाया है ताकि लोगों के रूटीन में बदलाव आए। जुर्माना बढ़ने की घोषणा के बाद गोरखपुराइट्स के अंदर कितना बदलाव आया है इसका रियल्टी चेक करने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट टीम शहर की सड़कों पर निकली तो चौंकाने वाला सीन सामने आया।

बाइक चलाते समय कर रहे थे बात

टीम ने बुधवार को सिटी के इलाकों का जायजा लिया। हर रोड पर ट्रैफिक रूल्स तोड़ने वाले ढेरों लोग दिखे। सड़क पर बेखौफ एक हाथ से बाइक और दूसरे हाथ में मोबाइल लेकर कई लोग बात करते दिखे। जबकि बाइक चलाते समय मोबाइल से बात करने पर अब 10 हजार जुर्माना हो गया है। वहीं ब्वॉयज हों या ग‌र्ल्स, तीन सवारी गाड़ी पर फर्राटा भरते दिखे। जिसका जुर्माना अब दो हजार रुपए हो गया है। इसी तरह बिना हेलमेट पहले 500 रुपए जुर्माना था जिसे बढ़ाकर अब 1000 रुपए कर दिया गया है। इसके बाद भी सड़क पर बिना हेलमेट बाइक या स्कूटी चलाने वालों की अच्छी खासी संख्या दिखी।

चेकिंग में भी भागते दिखे

पैडलेगंज चौराहे पर बुधवार दोपहर करीब 12.30 बजे वाहनों की चेकिंग चल रही थी। वहां बिना हेलमेट और तीन सवारी वालों को रोककर पुलिस चेक कर रही थी। इस दौरान कई ऐसे लोग दिखे जो बिना हेलमेट और तीन सवारी बाइक चला रहे थे, उन्होंने दूर से ही चेकिंग देखकर रास्ता बदल लिए। फिर हंसते-हंसते दूसरे रास्ते से निकल लिए।

रूल्स तोड़ने पर फाइन

वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करना - 10000

गलत फैक्ट्स बताकर डीएल बनवाने पर - 10000

इमरजेंसी वाहनों को रोकने पर - 10000

बिना हेलमेट गाड़ी चलाने पर - 1000

पहली बार गलत पार्किग पर - 500

दूसरी बार गलत पार्किग पर -1500

चेकिंग में अधिकारियों से भिड़ने पर - 2000

बिना लाइसेंस वाहन चलाने पर - 5000

टू व्हीलर पर तीन सवारी चलने पर - 2000

बिना सीट बेल्ट कार चलाने पर -1000

वर्जन

लाख चेकिंग के बाद भी लोग हेलमेट लगाने से गुरेज करते हैं। जबकि सड़क हादसे में अधिकतर मौतें केवल बिना हेलमेट सिर में चोट लगने से ही होती हैं। एक बार फिर शासन की तरफ से जुर्माना बढ़ाया गया है जिससे लोग ट्रैफिक रूल्स के प्रति अवेयर हों। शासन से निर्देश आते ही उसे कम्प्यूटर में फीड कर बढ़े हुए जुर्माने पर चालान काटे जाएंगे।

डीडी मिश्रा, आरटीओ प्रवर्तन

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.