वेरी माइल्ड कोविड-19 पेशेंट्स होंगे होम आइसोलेट

2020-05-04T05:45:22Z

इंफेक्टेड मरीजों को चार कैटेगरी में किया गया डिवाइड

केयर टेकर्स को भी बरतनी होगी खास सावधानियां

Meerut । कोरोना इंफेक्टेड मरीजों की बढ़ती गिनती ने शासन-प्रशासन को गहरी चिंता में डाल दिया है। वहीं मरीजों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने मरीजों को एडिमट करने के लिए गाइडलाइंस जारी की है। इसके तहत वेरी माइल्ड कोविड-19 पेशेंट्स को होम आइसोलेशन में ही रखने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए संक्त्रिमत मरीज को सेल्फ आइसोलेशन अंडरटेकिंग फार्म भरना होगा। जिसमें उसे शपथ लेनी होगी की विभाग द्वारा बताए गए सभी नियमों का पालन करेगा।

कैटेगरी में बांटे मरीज

कोरोना इंफेक्टेड मरीजों को चार कैटेगरी में बांटा गया है।

इसमें पहली वेरी माइल्ड, माइल्ड, मॉडरेट और सीवियर पेशेंट्स को शामिल किया गया है।

मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर भी बनाए गए हैं।

जांच के बाद मरीजों की रिपोर्ट के मुताबिक वेरी माइल्ड केस होम आइसोलेशन में रहेंगे।

माइल्ड पेशेंट्स के लिए कोविड केयर सेंटर, मॉडरेट के लिए डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर की व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा सीवियर कोरोना केस के लिए डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की व्यवस्था की गई है।

यह दीगर है कि डॉक्टर्स की सलाह के बाद ही वेरी माइल्ड कोरोना पेशेंट्स को होम आइसोलेशन में रखा जाएगा।

ये है गाइडलाइन

- मेडिकल ऑफिसर तय करेंगे मरीज कौन सी कैटेगरी में है।

- वेरी माइल्ड केसेज में होम आइसोलेशन की सुविधा उपलब्ध होगी।

- होम आइसोलेशन के दौरान 24 घंटे मरीज की देखभाल करने वाला कोई होना चाहिए।

- मरीज को आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड कर उसे हमेशा एक्टिव रखना जरुरी है।

- स्वास्थ्य विभाग को टाइम-टू-टाइम इंफार्म करना जरूरी होगा।

कब लें मेडिकल एडवाइज

- यदि सांस लेने में दिक्कत हो रही हो।

- छाती में निरंतर दबाब या दर्द हो रहा हो।

- सोचने-समझने में दिक्कत हो रही हो।

- चेहरा या होंठ नीले पड़ रहे हो।

केयर टेकर को भी बरतनी होगी सावधानी

- ट्रिपल लेयर डिस्पोजेबल मास्क का प्रयोग जरूरी होगा।

- हाथ, नाक या मुंह को छूने से बचें।

- हाथों को कम से कम 40 सेकेंड तक धोएं।

- एल्कोहल बेस्ड सेनेटाइजर का प्रयोग करें।

- हैंड ग्लव्ज का प्रयोग करें।

- मरीज की किसी भी चीज को इस्तेमाल न करें।

मरीज का रखें याल

- मरीज को ट्रिपल लेयर मेडिकल डिस्पोजेबल मास्क ही दें। 7-8 घंटे बाद मास्क बदल दें।

- मास्क को सोडियम हाइपोक्लोराइट के घोल में आधा घंटे भिगो कर रखें दें। इसके बाद इसे बीच से काटकर डिस्पोज ऑफ करें।

- मरीज को लगातार पानी दें। पानी की कमी न होने दें।

- सतह वाली चीजों को डिसइंफेक्ट करें।

- लगातार शरीर का तापमान चेक करते रहें।

शासन की ओर से गाइडलाइन जारी की गई हैं। वेरी माइल्ड कोरोना पेशेंट्स को होम आइसोलेशन में ही एडिमट किया जाएगा। इससे उसे दूसरे संक्त्रमण का खतरा नहीं होगा।

डॉ। राजकुमार, सीएमओ, मेरठ

Posted By: Inextlive

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.