कोलकाता (पीटीआई)। कोलकाता के प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी ने कहा है कि यह संस्थान के लिए बहुत गर्व की बात है कि हमारे पूर्व छात्र अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्त्र के लिए 2019 का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार देबाज्योति कोनार ने कहा, 'प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी को खुशी है कि उसके छात्र बनर्जी को अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार मिला है। इससे पहले इसी यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र अमर्त्य सेन को भी अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था। पूरे प्रेसीडेंसी परिवार को बनर्जी के लिए बहुत गर्व महसूस हो रहा है, जिन्होंने एस्थर डुफ्लो और माइकल क्रेमर के साथ संयुक्त रूप से 2019 का नोबेल अर्थशास्त्र पुरस्कार जीता है।'

यूनिवर्सिटी में मेंटर ग्रुप के सदस्य रहे हैं बनर्जी

कोनार ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, 'बनर्जी हमारे मेंटर ग्रुप के सदस्य रहे हैं और उन्होंने हमारे अर्थशास्त्र विभाग के लिए हमेशा बहुमूल्य सुझाव दिए हैं।' उन्होंने बताया कि बनर्जी ने आखिरी बार 2018 में प्रेसीडेंसी का दौरा किया था। कोनार ने कहा कि वह जब भी कोलकाता आते हैं तो एक बार यूनिवर्सिटी का दौरा भी जरूर करते हैं, वह आज भी इससे जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि जब दुर्गा पूजा की छुट्टी के बाद यूनिवर्सिटी फिर से खुलेगा, तो उनका स्वागत सत्कार किया जाएगा। बता दें कि अभिजीत बनर्जी, एस्थर डुफलो और माइकल क्रेमर को यह पुरस्कार दुनिया में गरीबी खत्म करने के प्रयोग को लेकर किए गए उनके शोध के लिए दिया गया है।

Nobel Economics Prize 2019 : अर्थशास्त्र के लिए अभिजीत बनर्जी और दो अन्य को मिला पुरस्कार

जानें काैन हैं अभिजीत बनर्जी, जिन्हें मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

इकनॉमिक्स के प्रफेसर हैं अभिजीत

अभिजीत इस वक्त मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी में इकनॉमिक्स के प्रफेसर हैं। इसके अलावा वह अब्दुल लतीफ जमील पॉवर्टी ऐक्शन लैब के को-फाउंडर भी हैं। बनर्जी का जन्म 1961 में मुंबई में हुआ था। उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी की है। उन्होंने कलकत्ता यूनिवर्सिटी और दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में भी पढाई की है।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk