अब गुरदासपुर में चिक‍ित्‍सा शिव‍िर में लापरवाहीगई 16 लोगों की आंखो की रोशनी

2014-12-05T10:49:08Z

अभी छत्‍तीसगढ़ में नसंबदी श‍िव‍िर में लापरवाही से कई महि‍लाओं की मौत का हादसे का दर्द कम नही हुआ था क‍ि फि‍र एक चिकित्सा शिविर में लापरवाही सामने आई है गुरदासपुर में एक समाजसेवी संस्था द्वारा आयोजित आंखों के चिकित्सा शिविर में कम से कम 60 लोगों की आंखों की रोशनी कम हो गई जि‍समें 16 लोग पूरी तरह से नेत्रहीन हो गए चिकित्सा विभाग के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है इनमें से 16 लोग अमृतसर के गांवों के हैं और शेष गुरदासपुर के रहने वाले हैं इन सभी मरीजों को शहर के आंखनाक व गला अस्पताल में भर्ती किया गया है

जांच के दिए गए आदेश
अमृतसर के उपायुक्त रवि भगत ने इस बात की पुष्टि की है. इनमें से 16 लोगों का सहायक प्रोफेसर कर्मजीत सिंह की देखरेख में इलाज चल रहा है. सिंह ने कहा कि इन मरीजों की आंखों की रोशनी स्थायी रूप से चली गई है और वे कभी भी देख नहीं सकेंगे. उपायुक्त भगत ने बताया कि इस मामले की जांच के सिविल सर्जन को आदेश दे दिए गए हैं. उनसे सोमवार तक रिपोर्ट मांगी गई है.सिविल सर्जन ने प्रतिनिधिमंडल के साथ गए 16 पीडि़तों को अमृतसर में ईएनटी अस्पताल में दाखिल करवाया दिया है.

नहीं ली गई थी परमीशन
सिविल सर्जन राजीव भल्ला ने बताया कि गत दिनों गुरदासपुर के घुमाण गांव में एक एनजीओ की तरफ से लगाए गए शिविर में इन मरीजों का इलाज किया गया था.ये सभी मरीज अमृतसर जिले के हैं.सिविल सर्जन रवि भल्ला ने बताया कि उच्च स्तरीय जांच में उन डाक्टरों की पहचान की जाएगी जिन्होंने कैंप में आपरेशन किया था.अमृतसर के सिविल सर्जन ने बताया कि आपरेशन दस दिन पहले किया गया था और मामला उस समय प्रकाश में आया जब अमृतसर के 16 मरीजों ने उपायुक्त भगत से शिकायत की.सिविल सर्जन ने बताया कि इस तरह के कैंप लगाने के लिए जिला प्रशासन और सिविल सर्जन से अनुमति लेना अनिवार्य होता है किंतु इस मामले में इस कानून का पालन नहीं किया गया.

Hindi News from India News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.