नशा का करते थे कारोबार एसटीएफ ने दबोचा

Updated Date: Tue, 23 Feb 2021 06:38 AM (IST)

-एक करोड़ रुपये के नशीले मादक पदार्थ के साथ अंतरप्रांतीय गिरोह के पांच सदस्यों का पकड़ा गया

- रोहनिया क्षेत्र के भुल्लनपुर में गोदाम बनाकर फेन्साडिल सिरप को अवैध रूप से रखा जाता था

- गिरोह यूपी के विभिन्न जनपदों से मादक पदार्थ और दवाओं की तस्करी कर पूर्वाेत्तर राज्यों में भेज रहा था

- फेन्साडिल सिरप में कोडिन नामक केमिकल पाया जाता है, जिसे एक साथ अधिक मात्रा में लेने पर नशा होता है

::: प्वाइंटर :::

50700

शीशी फेन्साडिल सिरप पकड़ा गया।

01

अदद ट्रक को भी कब्जे में लिया गया मौके से

05

मोबाइल फोन भी आरोपितों के पास से हुआ बरामद

4040

रुपये कैश नगद बरामद किया गया तलाशी के दौरा

यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए जिले के रोहनिया क्षेत्र से करीब एक करोड़ रुपये के नशीले मादक पदार्थ बरामद करते हुए अंतरप्रांतीय गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ फील्ड इकाई, वाराणसी निरीक्षक अनिल सिंह ने बताया कि लंबे समय से सूचना मिल रही थी कि अंतरप्रांतीय गिरोह यूपी के विभिन्न जनपदों से मादक पदार्थ और दवाओं की तस्करी कर पूर्वाेत्तर राज्यों में भेज रहा है। इसपर टीम चौकन्नी थी, इसी क्रम में रविवार को सूचना मिली कि अवैध तरीके से तस्करी कर फेन्साडिल सिरप पूर्वाेत्तर राज्यों में भेजी जा रही है। तत्परता दिखाते हुए एसटीएफ टीम रोहनिया के भुल्लनपुर स्थित एक गोदाम पर पहुंची जहां सिरप से लदे ट्रक से फेन्साडिल सिरप की 50700 शीशी बरामद हुई, वहीं पांच लोग भी धर दबोचे गए।

नशा करने के लिए भी लेते हैं सिरप

गिरफ्तार अभियुक्तों से जब एसटीएफ की टीम ने पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि फेन्साडिल सिरप कफ सिरप के रूप में उपयोग किया जाता है। इसमें कोडिन नामक केमिकल पाया जाता है, जिसे एक साथ अधिक मात्रा में लेने पर नशा होता है। बिहार से पश्चिम बंगाल के अलावा अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम और त्रिपुरा जैसे पूर्वाेत्तर राज्यों में नशा करने वाले लोग इसका प्रयोग नशा करने के लिए करते हैं। इसके कारण यह वहां काफी ज्यादा दामों पर बिकता है।

ऐसे आए पकड़ में

अनिल सिंह ने बताया कि सूचना मिली की एक गिरोह रोहनिया क्षेत्र के भुल्लनपुर में गोदाम बनाकर फेन्साडिल सिरप को अवैध रूप से लाकर रखता है। उसके बाद उसे पूर्वोत्तर राज्यों और अन्य जगहों पर तस्करी के माध्यम से भेजता है। सूचना मिलने के बाद एसटीएफ की टीम औषधि निरीक्षक को साथ लेकर इलाके में सर्च अभियान चला रही थी। सूत्रों के माध्यम से पता चला कि भुल्लनपुर स्थित प्रदीप जायसवाल के मकान में भारी मात्रा में अवैध रूप से फेन्साडिल सिरप तस्करी के लिए रखा गया है और उसे ट्रक में लोड किया जा रहा है, जो पूर्वाेत्तर राज्यो में भेजा जायेगा। टीम मौके पर पहुंची और घेराबंदी शुरू कर दी। इसी दौरान ट्रक में लोड कर रहे फेन्साडिल सिरप के पैकेटों के साथ तस्करों को धर दबोचा।

यहां चलता था अवैध कारोबार

एसटीएफ के अनुसार फेन्साडिल सिरप को मेसर्स उमा मेडिकल हॉल, एन-12/340 एसडब्लू भारतपुरम कॉलोनी देवपोखरी बजरडीहा, भेलूपुर के नाम पर सचिन मेडिकोज फार्मास्यूटिकल बजोरिया रोड, सहारनपुर से मंगाया गया था। इसके अतिरिक्त फेन्साडिल सिरप को अन्य जनपदों से भी तस्करी के माध्यम से लाकर प्रदीप जायसवाल के मकान में रखा जाता था।

ट्रक चालक वीरेंद्र ने उगल दिए राज

एसटीएफ के अनुसार अभियुक्त वीरेन्द्र पासवान ने बताया कि मतलूब अहमद खान ने मिर्जापुर जनपद से 25 टन चावल का बिल्टी बनवाकर 23 टन चावल लोडकर भुल्लनपुर गोदाम पर बुलाया था। फेन्साडिल सिरप को चावल की बोरियों के बीच में छुपाकर गुवहाटी (आसाम) पहुचाना था। वहां पहुंचने के बाद मतलूब अहमद खान बताता कि इसे किसे देना है। ऐसे फेन्साडिल सिरप को पहुंचाने के लिये 40 हजार रुपये प्रति चक्कर उसे अतिरिक्त मिलता है।

नशे का ये करते थे कारोबार

- सुनील पाण्डेय निवासी एसए/8/54 कुंती बिहार कॉलोनी नई बस्ती पाण्डेयपुर थाना लालपुर, पाण्डेयपुर

- प्रदीप जायसवाल निवासी 67/5 ईश्वरगंगी थाना सारनाथ

- वीरेन्द्र पासवान उर्फ बबलू निवासी धर्मापुर थाना गौरा बादशाहपुर जिला जौनपुर

- सुनील कुमार सरोज निवासी डीधिया थाना बडागांव

- किशन यादव निवासी अमुआरा थाना सैदपुर जनपद गाजीपुर

::: कोट :::

पांच लोगों को मादक पदार्थ और अवैध दवा के साथ गिरफ्तार किया गया है। रोहनिया थाना क्षेत्र में करीब एक साल से ये कारोबार चला रहे थे। पांचों को जेल भेज दिया गया है।

विनोद सिंह, सीओ, एसटीएफ वाराणसी फील्ड इकाई

Posted By: Inextlive
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.